अखिलेश ने गवर्नर को सौंपा इस्तीफा, कहा समझाने से वोट नहीं मिलता, बहकाने से मिलता है

akhilesh
-चुनाव में भारी पराजय के बाद अखिलेश यादव ने राजभवन पहंुच कर दिया इस्तीफा
-प्रेस कान्फ्रेंस में बोले- लगता है मेरा वक्त हो गया जाने का
-गठबंधन आगे भी जारी रहेगा
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में करारी हार के बाद शनिवार को देर शाम को प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव ने राजभवन पहुंचकर गवर्नर राम नाईक को इस्तीफा सौंप दिया। राज्यपाल ने उनका इस्तीफा स्वीकार करते हुए उन्हें अगली व्यवस्था तक सीएम बने रहने को कहा है।
अखिलेश यादव ने इस्तीफा देने से पूर्व एक प्रेस कांफ्रेंस भी की। जिसमें उन्होंने कहा कि अब तो पूरा परिणाम सामने है। मुझे 5 साल जो मौका मिला काम करने का। मुझे यकीन है नई सरकार हमसे बेहतर काम करेगी। मैं जनता को बधाई देता हूं। हम लोकतंत्र के निर्णय को स्वीकार करते हैं। साथ ही प्रेस कांफ्रेंस के आखिर में उन्होंने कहा- लगता है मेरा वक्त हो गया जाने का। उन्होंने कहा कि लोंगो को मेट्रो नहीं बुलेट ट्रेन पसंद है। मायावती के इवीएम पर प्रश्न चिन्ह उठाने के बाबत पूछे जाने पर आखिलेश यादव ने कहा कि अगर किसी पार्टी ने ईवीएम पर सवाल उठाए हैं तो सरकार को जांच करा लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि आने वाली सरकार ज्यादा पेंशन देगी। हमने किसानों का कर्जा भी माफ किया था।
शायद जनता इससे भी अच्छा काम चाहती है। शायद वो कुछ और सुनना चाहती होगी। उन्होंने कहा कि कभी-कभी गरीब को पता नहीं होता वो क्या चाहता है। करारी हार के बावत पूछे जाने पर अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री मैं था, राष्ट्रीय अध्यक्ष भी मैं हूं। हार की समीक्षा भी मैं करूंगा और जिम्मेदारी भी मेरी होगी। उन्होंने कहा कि मैं अब यह बात मान सकता हूं कि समझाने से वोट नहीं मिलता है, बहकाने से वोट मिलता है। जब तक हमसे कोई अच्छा काम नहीं करता हमारा ही काम बोलेगा। हमें पिछली बार से ज्यादा वोट मिला है। कांग्रेस से गठबंधन के बाबत पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि एलायंस ठीक है, इससे हमें लाभ मिला है। यह आगे भी जारी रहेगा।

Share

Leave a Reply

Share