Breaking News

अन्तराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस पर सारनाथ में छायाचित्र प्रदर्शनी

sarnath 2

(विजय श्रीवास्तव)
-30 जून तक चलेगी आम जन के प्रदर्शनी
-सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने करीब से देखा संग्रहालय को
वाराणसी। किसी देश की प्राचीन धरोहर, परम्परा को देखना समझना हो सीधे उस देश के संग्रहालय को देखना चाहिए। कुछ इसी परिकल्पना को आत्मसात करते हुए कभी पुरातत्वविदों ने 18 मई का दिन चुना था जिसे अन्तराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस के रूप में पूरे विश्व में मनाया जाता है।
इसी क्रम में आज भगवान बुद्ध की उपदेश स्थली सारनाथ में स्थित पुरात्तव संग्रहालय में गुरूवार को अन्तराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस के अवसर पर एक छायाचित्र प्रदर्शनी का उदघाटन अधीक्षण पुरातत्वविद भारतीय सर्वेक्षण सारनाथ मंडल कृष्ण चन्द्र श्रीवास्तव ने किया। इस छाया चित्र प्रदर्शनी के माध्यम से 45 पुरात्तव स्थलों के संग्रहालयों एवं उनकी प्रमुख कलाकृतियों का चित्र प्रदर्शित किया गया है। यह प्रदर्शनी 30 जून तक आम व्यक्तियों के अवलोकनार्थ खुली रहेगी।

12345677
इस सम्बन्ध में पुरातत्व विद कृष्ण चन्द्र श्रीवास्तव ने बताया कि ‘ भारत की धरोहरों को सुरक्षित और संरक्षित करना सिर्फ पुरात्तव विभाग का कर्तव्य नहीं है। हम सभी को अपने इतिहास को बचाने और संरक्षित करने के दायित्व को समझना होगा तभी हमारे ये ऐतिहासिक खजाने सदियों तक बचे रहेंगे। आज की इस प्रदर्शनी में सारनाथ संग्रहालय की अमूल्य कलाकृति सिंह शीर्ष, धर्म चक्र, प्रवर्तन मुद्रा में बुद्ध, बुद्ध मस्तक की कलाकृति को भी प्रदर्शित किया गया है।
इस अवसर पर सांस्कृतिक पदयात्रा, चित्रकला एवं निबन्ध प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। जिसमें सारनाथ के निकटवर्ती विद्यालयों यथा जीवन ज्योति हायर सेकेंडरी स्कूल, मुनेश्वर सरदारबालिका विद्यालय एवं यूनिवर्सल एजुकेषनल स्कूल के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया।
चित्रकला प्रतियोगिता में
अमरजीत मौर्य ने प्रथम पुरस्कार, वर्षा यादव ने द्वितीय, रोबीका चकमा ने तृतीय तथा अमीषा गुप्ता, पलक श्रीवास्तव व श्यामा दूबे ने सांत्वना पुरस्कार प्राप्त किया।
निबन्ध प्रतियोगिता में
शोभिता नन्दिनी ने प्रथम पुरस्कार, खुषी सिंह ने द्वितीय, षिवांगी यादव ने तृतीय तथा शाम्भवी सौम्य, अनन्या यादव व अलका पटेल को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।
प्रतियोगिता में सहभागिता के लिए भी सभी छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत किया गया। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं को पर्यावरण एवं स्मारक को स्वच्छ व सुरक्षित रखने के लिए शपथ भी दिलाई गयी।
इस शुभ अवसर पर देशी विदेशी पर्यटक गण, स्थानीय लोगों, मीडियाकर्मीगण के अतिरिक्त भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के विभिन्न अनुभागों के सभी अधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित थे जिनमें ए0 के0 गुप्ता, डाॅ0 नीतेश सक्सेना, पी0 के0 त्रिपाठी, पंकज झा, श्री प्रमोद कुमार पाल, रामनरेश यादव, योगेश पालीवाल, मनोज यादव, राजीव वर्मा एवं अनुराग श्रीवास्तव इत्यादि सम्मिलित हुये।

Share

Related posts

Share