Breaking News

अपडेट : आज सुलझ सकता है सुप्रीम कोर्ट जज विवाद!

cheaf_justice

-चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा आज बुला सकते हैं बैठक
-शुक्रवार को चार सीनियर जजों ने किया था प्रेस कान्फेस
नई दिल्ली। भारत के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जज एक साथ मीडिया के सामने आने से पूरा देश स्तब्ध रह गया है। चार जजों के प्रेस के सामने आने से शुक्रवार को दिन भर सुप्रीम कोर्ट से लेकर सरकार में उहापोह की स्थिति बनी हुई रही। शाम तक इस मामले में कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कानफं्रेस कर जस्टिस सोया की संदिग्ध मोैत की जांच कराने की मांग को लेकर भाजपा पर हमला बोल दिया। लेकिन इस बीच इन सब के बीच यह बात भी सामने आ रही है कि आज सप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा आज चारों जजों के साथ बैठक कर मामले को सुलझा सकते हैं। इसके लिए आज वे बैठक बुला सकते हैं।
गौरतलब है कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जज ने प्रेस कान्फे्रन्स किया। जिसमें चीफ जस्टिस के बाद दूसरे सबसे सीनियर जज जस्टिस चेलमेश्वर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कभी-कभी होता है कि देश में सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था भी बदलती है। इस समय सुप्रीम कोर्ट का एडमिनिस्ट्रेशन ठीक से काम नहीं कर रहा है और चीफ जस्टिस की ओर से ज्युडिशियल बेंचों को सुनवाई के लिए केस मनमाने ढंग से दिए जा रहे हैं। इससे ज्युडिशियरी के भरोसे पर दाग लग रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर इंस्टीट्यूशन को ठीक नहीं किया गया तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि हमने इस मुद्दे पर चीफ जस्टिस से बात की, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं सुनी। चारों जजों ने कहा कि अगर हमने देश के सामने ये बातें नहीं रखी और हम नहीं बोले तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा। हमने चीफ जस्टिस से अनियमितताओं पर बात की। उन्होंने बताया कि चार महीने पहले हम सभी चार जजों ने चीफ जस्टिस को एक पत्र लिखा था, जो कि प्रशासन के बारे में थे, हमने कुछ मुद्दे उठाए थे। चीफ जस्टिस पर देश को फैसला करना चाहिए, हम बस देश का कर्ज अदा कर रहे हैं। 20 मिनट तक चली इस कॉन्फ्रेंस में जस्टिस जे चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन भीमराव लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसफ मौजूद थे। लेकिन, दो जजों ने ही मीडिया के सामने बात रखी। भारतीय इतिहास मंे घटित सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों द्वारा चीफ जस्टिस (सीजेआई) दीपक मिश्रा के खिलाफ बगावती तेवर अपनाने के बाद चीफ जस्टिस (सीजेआई) दीपक मिश्रा ने भी इस मामले में अपना पक्ष रखा है। सूत्रों के अनुसार चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में सब जज बराबर हैं और स्वतंत्र माने जाते हैं।
सूत्रों के अनुसार चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा शनिवार को इस मामले पर बात करने और हल निकालने के लिए जजों के साथ बैठक बुला सकते हैं। जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में सभी केसों का सही बंटवारा होता है। वहीं इस मामले में अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच सारी तकरार खत्म हो जाएगी और सारे मामले सुलझा लिए जाएंगे।
इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि चारों जजों का आरोप बेहद अहम है। राहुल ने कहा कि जज लोया मामले की जांच सही तरीके से होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जो मुद्दे 4 जजों ने उठाए हैं वो अहम हैं। उन्होंने लोकतंत्र के खतरे की बात की, जिसे देखना होगा। उन्होंने कहा कि इस तरह की चीज पहले कभी नहीं हुई। यह एक अभूतपूर्व मामला है।

Share

Related posts

Share