अब योगी अफसरों से लैंडलाइन पर लेंगे काम का हिसाब-किताब

yogi-a
विजय श्रीवास्तव
-रोज 9 से 11 बजे सुबह सूने अधिकारी जनता की शिकायत
-अधिकारी 9 से 6 तक रहे आॅफिस में
-100 दिन के एजेंडे पर काम कर रही है सरकार
– हर मिनिस्टर को मिले दो-दो जिले
लखनऊ। योगी आदित्यनाथ अब प्रदेश के अधिकारियों से सीधे लैंड लाइन फोन पर कभी भी बातचीत कर काम का हिसाब-किताब पूछ सकते हैं। अगर अफसर जिले से बाहर जाता है, तो उसे इसकी जानकारी सीएम ऑफिस को देनी होगी। सीएम के इस फरमान से अधिकारियों की नींद उड़ गयी है।
शुक्रवार को वि़द्युतमंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया, योगी जी अफसरों को 9 से 6 बजे के बीच कभी भी कॉल कर बातचीत कर सकते हेंै। अगर अफसर ऑफिस में नहीं है और वहां मौजूद न होने का उचित कारण नहीं दे पाए, तो उन पर एक्शन लिया जा सकता है। उन्होंने बताया कि  लैंड लाइन पर फोन करने के पीछे कारण ये है कि अगर सीनियर अफसर ऑफिस में मौजूद रहेंगे तो जूनियर अफसर भी उन्हें फॉलो करेंगे। हालांकि, फील्ड पर मौजूद रहने वाले अफसरों के लिए इस मामले में कुछ रियायतें दी गई हैं। इसके साथ ही सीएम ने तुरंत सीनियर अफसरों को होम ऑफिस बंद करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि सभी मंत्रियों को अपने विभाग का व्हाइट पेपर (श्वेत पत्र) जारी करने को कहा गया है। सरकार 100 दिन के एजेंडे पर काम कर ही है। जिन मंत्री को जिला इंचार्ज बनाया गया है, वो वहां जाकर 100 दिन के एजेंडे के अलावा केंद्र और राज्य की स्कीम्स का रिव्यू करेंगे। उन्होंने कहा कि मंत्री बिजली, सड़क, किसानों से जुड़ी समस्याओं का इंस्पेक्शन और रिव्यू करेंगे। बेसिक एजुकेशन में सुधार की जरूरत है। स्कूलों में जाकर इंस्पेक्शन करना होगा। मिनिस्टर्स और अफसर हॉस्पटिल्स सर्विस का इंस्पेक्शन अचानकर करें। लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी, जीरो टॉलरेंस के बेस पर काम होगा। आरोपी जेल जाएंगे।
श्री शर्मा ने कहा कि सभी मिनिस्टर्स को दो-दो जिले सौंपे गए है। 100 दिन के बाद सरकार एक रिपोर्ट कार्ड भी जनता के सामने रखेगी। संगठन और सरकार का कॉर्डिनेशन ठीक हो, इसके लिए कोर ग्रुप बनाया गया है। एक मिनिस्टर स्टेट बीजेपी हेडर्क्वाटर पर 2 घंटे बैठकर सुनवाई करेगा। सीएम आवास पर जनसुनवाई चलेगी। सीएम की गैरमौजूदगी में राज्यमंत्री सुनवाई का काम देखेंगे। उन्हेांने कहा कि जिन जिला और विभाग से शिकायतें ज्यादा होंगी, वहां के अधिकारी को लखनऊ तलब किया जाएगा। कैम्प ऑफिस से डिस्ट्रिक्ट में काम करने वाले अफसर तुरंत अपने ऑफिस से काम करना शुरू करें। डीएम और एसएसपी इस निर्देश को फॉलो करें।

Share

Leave a Reply

Share