Breaking News

अब योगी सरकार भी देगी मेधावी छात्रों को लैपटाप, सुमंगला योजना में 1200 करोड़ रुपये का बजट

विजय श्रीवास्तव
-सरकार ने मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की लागू
-महिला शक्ति केन्द्रों की स्थापना के लिए 32 करोड़ रुपये का बजट
-मुख्यमंत्री सक्षम सुपोषण योजना के लिए 100 करोड़ रूपये का प्राविधान बजट

लखनऊ। योगी सरकार ने अपने बजट में प्रदेश के युवाओं के साथ महिलाओं के सुरक्षा व उनसे जुडी योजनाओं के लिए कई घोषणाएं की हैं। अखिलेश सरकार की तर्ज पर अब योगी सरकार भी मेधावी छात्रों को लैपटाप देगी। बजट भाषण के बाद मुख्यमंत्री योगी ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत पात्र छात्र-छात्राओं को लैपटाप मुहैया कराएगी वहीं मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत 1200 करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में प्रस्ताव किया गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला कल्याण, कृषि, सिंचाई, औद्योगिक विकास, पर्यटन, क्षेत्रीय विकास तथा अवस्थापना सहित राज्य के हर सेक्टर का इस बजट में ध्यान रखा गया है। जिसके तहत ही राज्य में कोविड -19 की रोकथाम के लिए टीकाकरण योजना के लिए भी सरकार ने 50 करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में की है।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना को और परिष्कृत कर लागू किये जाने का निर्णय किया है, जिसके तहत 1200 करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में की गई है। वित्तीय वर्ष 2021- 2022 से महिला सामर्थ्य योजना के नाम से नई योजना शुरु करने का फैसला किया गया है। इस योजना के लिए 200 करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में प्रस्तावित की गई है। महिलाओं और बच्चों में कुपोषण की समस्या के निदान के लिए मुख्यमंत्री सक्षम सुपोषण योजना के लिए 100 करोड़ रूपये का प्राविधान बजट में किया गया है। महिला शक्ति केन्द्रों की स्थापना के लिए 32 करोड़ रुपये का बजट प्राविधान करना, युवाओं के लिए मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना में पात्र छात्रों को लैपटॉप मुहैया करना और श्रमिकों के लिए रोजगार योजना की शुरुआत करने का फैसला इसी सोच का नतीजा है।
उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि प्रदेश के प्रत्येक गांव में एक खेल का मैदान हो। इसके अलावा बजट में जिन मंडलों में राज्य विश्वविद्यालय नहीं हैं। वहां विश्वविद्यालय बनाने का एलान किया है। इसके अलावा, ओपन एअर जिम और गांवों में खेल का मैदान बनाने की बात कही है।

Share

Related posts

Share