Breaking News

अमेरिकी कम्पनी ‘सनटेक्स इंटरनेशनल‘ ने भारत में शुरू की ‘‘firstinmath‘‘ कार्यक्रम की शुरूआत, खेल-खेल में सिखाएं अपने बच्चों को मैथ

online-gaming 123

विजय श्रीवास्तव
-6 वर्ष से अधिक के बच्चों के लिए उपयोगी
-बैंकिंग, एसएससी आदि कम्पीटशन की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए भी उपयोगी
-विश्व के करोडो बच्चें इस कार्यक्रम से जुड कर अपने मैथ को कर चुके हैं तेज
वाराणसी। मैथ यानि गणित अगर आपके बच्चें का कमजोर है तो आपका बच्चा आज के दौड में काफी पीछे छूट जायेगा। मैथ न केवल आपके बच्चें के दिमाग को तेज बनाता है वरन् क्वीक डिसिजन लेने में भी कारगर सिद्ध होता है। आज बैंिकंग, कर्मचारी चयन आयोग सहित दर्जनों ऐसी परिक्षाएं ऐसी है जिसमें अगर आपका मैथ तेज और कम समय में उसे हल करने की ट्रिक आती है तो आपके लिए इन कई प्रतियोगी परीक्षाओं को निकालना बहुत ही आसान है। अमेरिका की ऐसी ही एक कम्पनी है जो बच्चों को खेल-खेल में मैथ के ऐसे ट्रिक सिखाती है जो उसके आगे आने वाले बेहरीन भविष्य में काफी उपयोगी सिद्ध होगी, साथ ही उसके अन्दर आत्मविश्वास के साथ उसे अन्य बच्चों से अलग करती है।

firstinmath final

अमेरिका की 30 वर्ष पुरानी एक कम्पनी ‘‘सनटेक्स इंटरनेशनल‘‘ अब भारत में ‘‘firstinmath‘‘ आॅनलाइन कार्यक्रम लेकर आयी है। जिसके जरिए बच्चों को डिजिटल गेमिंग के माध्यम से मैथ में केवल रूचि ही नहीं वरन् उसे तेजी से हल करने के ट्रिक सिखाती है। कम्पनी के इस आॅनलाइन कार्यक्रम के माध्यम से जहां अमेरिका सहित अन्य कई देशों के करोडो बच्चें आज के समय इस कार्यक्रम से जुडे हैं। जिससे न केवल उनकी मैथ में रूचि बढी है वरन् वे आज अन्य बच्चों की तुलना में मैथ में काफी तेज है। हमारें देश में अधिकतर प्राबलम देते है और उसे साल्ब करने को कहते हैं। वह साल्ब करने का तरीका भी अधिकतर एक ही होता है। जबकि आॅनलाइन कार्यक्रम में प्रैक्टिस के माध्यम से स्वंय प्राबलम क्रियेट करना फिर उसे साल्ब करने के आसान ट्रिक बताते हेैं। गेम के माध्यम से बताने पर जहां बच्चों की मैथ में रूचि बढती है वहीं अपने से प्राबलम साल्ब करने से उसके अन्दर आत्मविश्वास बढता है। कम्पनी हर प्राबलम को साल्ब करने का रिकार्ड रखती है जिसपर उसे एवार्ड आदि भी मिलते हैं। विदेशों में यह स्कूलों में विधिवत क्लास के रूप में कार्यक्रम को संचालित किया जाता है।

first

कम्पनी की भारतीय ईकाई की सीईओ मोनिका पटेल ने बताया कि भारत में इस कम्पनी के कार्यक्रम को दो वर्ष से चलाया जा रहा है। शुरूआती दौर में देश के बडे शहरों के 45 स्कूल में इस कार्यक्रम को चलाया गया जिसमें उसके अच्छे और उत्साहित करने वाले परिणाम देखने को मिले। इस कार्यक्रम को स्कूलोें के साथ ही अभिभावकों ने काफी सराहा। जिससे अब इसे देश के अन्य हिस्सों में इसे चलाने की तैयारी की जा रही है। उन्होंने बताया कि अगर कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को इस कार्यक्रम से जोडा जाए तो इसका परिणाम उसके पूरे फ्यूचर में दिखेगा। इससे जहां उसे मैथ में रूचि बढेगी वहीं उसके अन्दर आत्मविश्वास में इजाफा करेगा। गेम के माध्यम से मैथ के अधिक से अधिक प्रैक्टिस उसके मांइड को भी क्वीक डिसिजन लेने में भी मदद करते हैं। इस कार्यक्रम की सबसे बडी खुबसूरती यह भी है कि इस कार्यक्रम में पूरा परिवार भी जुड जाता है और आपस में प्रैक्टिस कर आपस में भी प्रतिस्र्पधा कर सकता है। इसके माध्यम से कोई संख्या कैसे अन्य संख्या से कनेक्ट होती है, इसके ट्रिक को भी बताती है।
मोनिका पटेल ने बताया कि इस कार्यक्रम से जुडने के लिए आपको एक आईडी खरीदनी पडती है जिसकी कीमत रू. 800.00 व 18 प्रतिशत GST होगी। जो पूरे एक वर्ष तक एक्टिव रहती है। कम्पनी आईडी के साथ आपको पासवर्ड देती है जिसके माध्यम से आप www.firstinmath.in साइट पर जाकर इस कार्यक्रम से जुड सकते हैं। प्रतिदिन अपडेट होने के कारण आपको तरह-तरह के प्राबलम और उन्हें हल करने के ट्रिक दिए जाते हैं जिससे आप उसे साल्व कर सकें। इसमें ज्वाइन करने के लिए आप मोबाइल नम्बर 8318543364 व 8090440834 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

Share

Related posts

Share