आखिरकार योगी आदित्यनाथ को सौंपी गई बीआरडी मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट, 7 पर हुआ मुकदमा दर्ज

yogi
-चार लोंगो को खिलाफ एफआरआर दर्ज
-भ्रष्टाचार और गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज
लखनऊ। गोरखपुर में स्थित बीआरडी कालेज में आक्सीजन रूकने से हुई दर्जनों बच्चों की मौत की फाइनल रिपोर्ट देर रात सीएम योगी को पेश कर दी गयी। रिपोर्ट में मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल और डॉ. कफील खान सहित 4 लोगों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। योगी आदित्यनाथ ने दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने के आदेश जारी किए हैं। रिपोर्ट में डॉक्टर कफील खान पर भी आपराधिक मुकदमा चलाए जाने की अनुशंसा की गई है। कफील के खिलाफ गलत शपथ पत्र देने और इंडियन मेडिकल काउंसिल के नियमों की अवहेलना करने का आरोप है। योगी के आदेश पर बुधवार को देर रात लखनऊ के हजरतगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म पुष्पा सेल्स के संचालकों, प्रधानाचार्य डा. राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी समेत सात से ज्यादा कर्मचारियों-डॉक्टरों को इस मामले में नामजद किया गया है। उनके खिलाफ लापरवाही, भ्रष्टाचार और गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज हुआ है।
गौरतलब है कि घटना के बाद योगी आदित्यनाथ ने इसके लिए जांच कमेटी गठित करने का आदेश दिया था। जिसपर उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव की चार सदस्यीय कमेटी ने गोरखपुर के बीआरडी कॉलेज में हुए बच्चों की मौत के जिम्मेदार लोगों और हादसे के दोषियों की पहचान कर अपनी जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंप दी है. इस रिपोर्ट में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की अनुशंसा की गई है। मुख्य सचिव की कमेटी ने इस हादसे के लिए सीधे तौर पर चार लोगों को दोषी करार दिया है. जिसमें बीआरडी कॉलेज के तत्कालीन प्रिंसिपल राजीव मिश्रा, एनेस्थीसिया विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. सतीश, वॉर्ड प्रमुख डॉ. कफील खान और ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स को पूरे हादसे के लिए जिम्मेदार बताते हुए इन सभी के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई की अनुशंसा की गई है।
इसके साथ ही कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी डॉ. पूर्णिमा शुक्ला के खिलाफ भ्रष्टाचार उन्मूलन अधिनियम के अनुसार भी कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए गए हैं। इस कमेटी ने सीएजी से जांच की विशेष अनुशंसा की है। रिपोर्ट में पिछले तीन साल की सभी दवा और केमिकल की आपूर्ति की जांच सीएजी से कराने की बात कही गई।

Share

Leave a Reply

Share