Breaking News

कोरोना संकट : आशापुर पुलिस चौकी इंचार्ज को लोहिया नगरवासियों ने किया सम्मानित

विजय श्रीवास्तव
-स्मृतिपत्र दे कर किया लोहिया नगर विकास समिति ने सम्मानित
-कोरोना संकट में तन-मन-धन से कर रहे हैं पीडितों की सेवा

वाराणसी। कोरोना वैश्विक महामारी में सबसे अच्छी बात अगर देखने को मिली तो वह लोंगो में पुलिस व डाक्टर के प्रति सोच में बदलाव देखने को मिला। अभी तक पुलिस महकमा की अलग छवि ही लोंगो के जेहन में देखने को मिलती थी, लेकिन इस महामारी के दौरान पुलिस के प्रति लोंगो की सोच पूरी तरह से बदल गयी है। लोंगो को लगा कि नहीं पुलिस के अन्दर भी संवेदना होती है और उनका भी एक मानवीय चेहरा है जो लोंगो के दुःख-दर्द को महसूस करता है। यह बात और है कि ऐसे चेहरे कम हैं लेकिन जो भी हैं उनको सैलूट करना चाहिए। कुछ ऐसा ही भगवान बुद्ध की उपदेश स्थली सारनाथ क्षेत्र के आशापुर पुलिस चौकी इंचार्ज राजीव कुमार सिंह इन दिनों कर रहे हैं। जिसके लिए लोहिया नगर विकास समिति ने उन्हें स्मृतिपत्र दे कर सम्मानित किया।


वैश्विक महामारी कोरोना ने अन्य देशों के साथ भारत में भी मार्च के तीसरे सप्ताह से अपना पैर पसारना शुरू कर दिया था। जिसकों लेकर भारत सरकार ने 21 मार्च से लाॅकडाउन का एलान कर दिया था। जिससे लोंग घरों में रहने के लिए विवश हो गये। ऐसे में सबसे बुरा प्रभाव इसका गरीब व प्रवासी मजदूरों के ऊपर देखने को मिला। ऐसे में आशापुर के आसपास भी हजारों की संख्या में गरीब व प्रवासी मजदूरों के सामने खाने का संकट उत्पन्न हो गया। ऐसे में इनलोंगो के लिए एक भगवान के रूप में आशापुर पुलिस चौकी इंचार्ज राजीव कुमार सिंह सामने आए। उनके इस काम में उनकी टीम ने भी भरपूर सहयोग किया वहीं सारनाथ थाना प्रभारी वीर बहादुर सिंह ने पूरा सहयोग किया। राजीव सिंह ने शुरूआती दौर में आसपास के लोंगो से सम्पर्क कर उनसे सहयोग का आह्वान कर लंच पैकेट व राशन किट आदि की व्यवस्था कराते रहें। इसी कडी में आशापुर चैराहे के समीप लोहिया नगर निवासियों ने भी लगभग 20 दिन 150 लंच पैकेट का प्रतिदिन मदद के साथ 21 हजार रूपये की मदद की। इसके साथ ही राजीव सिंह को जब भी लगा कि कुछ लोग और भूखे है तो उन्होंने अपने पैसे से भी उन्हें सहयोग करने में गुरेज नहीं किया। वेतन में 10 हजार रूपया अपने घर के खर्च के लिए रख कर शेष राशि इन पीडितों के लिए दान कर दिया। ऐसे में निश्चय की इस कोरोना योद्धा को सलाम करने की इच्छा होती है।


इस सन्दर्भ में इलाहाबाद निवासी राजीव सिंह कहते है कि वे गरीब किसान परिवार से जुडे हैं। बचपन में ही 2 वर्ष की आयु में माॅ गुजर गयी। उनके बडे पिताजी ने ही उनका लालन-पालन किया, गरीबों की सेवा बचपन से ही उनके द्धारा ही मिली। वे आज भी हमारें साथ हैं और कहते हैं कि गरीबों को बेटा सदैव मदद करों। जिससे ऐसे लोंगो को जब भी देखता हूं तो मन विचलित हो जाता है।
उनके सराहनीय कार्य को आज काफी सराह रहे हैं । इसी क्रम में आज लोहिया नगर विकास समिति ने उन्हें उनके चौकी पर ही पहुंच कर उन्हें स्मृति-पत्र दे कर सम्मानित किया। इस दौरान सर्वश्री वीके श्रीवास्तव, करूणा शंकर मिश्रा, अनुराग श्रीवास्तव, हरिशंकर सिन्हा, हरिश्चन्द्र, राजेन्द्र कुमार, राकेश सिन्हा, विवेक श्रीवास्तव, अमित आनन्द, विजय श्रीवास्त, चन्द्र प्रकाश आदि लोंग उपस्थित रहे।

Share

Related posts

Share