Breaking News

आशापुर में जर्जर सड़क के निर्माण व मरम्मत को लेकर नागरिकों ने किया चक्का जाम

विजय श्रीवास्तव
-अपर नगर अधिकारी चतुर्थ के आश्वासन पर चक्का जाम हुआ समाप्त
-रेलवे ब्रिज बनने के कारण एक वर्ष से आसपास की सड़क हो चुकी है जर्जर
-सभी लिंक सड़कों पर भी बडे़-बडे़ हैं गढढें

वाराणसी। वाराणसी-गाजीपुर मार्ग पर स्थित आशापुर चौराहा व आसपास की सड़कें बिगत एक वर्ष से जर्जर हो चुकी हैं, आशापुर रेलवे क्रासिंग से लेकर 500 मीटर तक सड़कों पर भी बडे़-बडे़ गढढें के चलते आए दिन दुर्घटना होती रहती है। स्थानीय लोंगो व समाजसेवियों द्धारा बार-बार लिखित शिकायत के बाद भी प्रशासन की कुम्भकर्णी निद्रा नहीं खुली। जिससे आज स्थानीय लोंगो का गुस्सा बिफर पड़ा। दर्जनों की संख्या में आशापुर ग्राम प्रधान संतोष पाण्डेय व तिलमापुर के पूर्व प्रधान नागेश्वर मिश्रा के नेतृत्व में चौराहा पर चक्का जाम कर दिया। जिससे दोनों ओर वाहनों की लम्बी कतारें लग गयी। आनन-फानन में सूचना मिलने पर अपर नगर अधिकारी चतुर्थ मौंके पर पहुंच गये और मरम्मत व निर्माण के आश्वासन पर चक्का जाम समाप्त हुआ।


गौरतलब है कि आशापुर रेलवे क्रांिसंग पर रेलवे ब्रिज बन रहा है। जिसे मार्च पिछले वर्ष ही समाप्त हो जाना चाहिए लेकिन प्रशासनिक उदासिनता व लापरवाही के चलते काम कछुआ की चाल रहा है। पूल के चलते पुराने आरटीओं से लेकर झुनझुन वाला मिल तक सड़क की स्थिति बहुत ही खराब है। जगह-जगह बड़े-बड़े गढढ्े होने के कारण आए दिन लोग दुर्घटना के शिकार होते हैं। बरसात होने के कारण इन दिनों पूरे सड़क पर जलजमाव के चलते स्थिति और खराब हो गयी है। आए दिन पुल के निर्माणकार्य के दौरान रेलवे क्रासिंग से आवागमन बन्द कर दिया जाता है जिसके चलते लोंगो को तिलमापुर, हिरामनपुर, लोहियानगर कालोनी से होकर निकलना पड़ता है, लेकिन इन सड़कों की हालत भी खस्ता होने की वजह से लोंगो को भारी परेशानी का सामना उठाना पड़ता है।


आशापुर के प्रधान सन्तोष पांडेय व तिलमापुर के पूर्व प्रधान नागेश्वर मिश्र ने बताया कि विगत कई दिनों से इस सन्दर्भ में प्रशासनिक अधिकारियों को लिखित शिकायत की जा रही थी लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ। जिससे आज स्थानीय जनता कुम्भकर्णी निद्रा में सो रही प्रशासन को जगाने के लिए आज सुबह 11 बजे चक्का जाम कर दिया। जिसपर अपर नगर अधिकारी चतुर्थ के आश्वासन पर चक्का जाम चेतावनी के साथ समाप्त हुआ की यदि 10 दिन में उपरोक्त गांवों के मुख्य मार्गों को सही नही किया गया तो पुनः भीषण चक्का जाम होगा।
इस दौरान देव पांडेय, राजशेखर राज, मुरारी पांडेय, प्रदीप पांडेय, पवन पांडेय, प्रभु राजभर, मनोज पांडेय, शनि राजभर, नितिन मिश्र, बाबा समेत दर्जनों लोग उपस्थित रहे।

Share

Related posts

Share