Breaking News

उत्तराखंड: पौड़ी-गढ़वाल में बस खाई में गिरी, 47 की मौत

bus

-बस भवन से रामनगर जा रही थी
-28 सीटर बस में 50 से अधिक लोग सवार थे
-तीन हेलिकॉप्टर से शुरू हुआ राहतकार्य
नई दिल्ली। उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल में आज बड़ा हादसा हुआ। पैसेंजर्स से खचाखच भरी बस 200 फुट खाई मंे गिरने से अब तक 47 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 11 लोग घायल हो गये। घायलों को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। उक्त हादसा एक वाहन को बचाने में हुआ। प्रशासन राहत कार्य में जुटा हुआ है।

ASHOKA INSTITU

प्राप्त जानकारी के अनुसार पौढ़ी-गढ़वाल.उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल के धूमाकोट इलाके में पैसेंजर्स से भरी बस जो भौन से राजनजर जा रही थी। जब वह धूमाकोट इलाके में पहाडी रास्ते पर पहुंची तो उसी समय एक वाहन सामने आ गया। प्रत्यदर्शियों के अनुसार बस ड्राइवर असंतुलित होकर 200 मीटर गहरी खाई में गिर गई। जिससे दर्दनाक इस हादसे में 47 लोंगो की मौत हो चुकी है वहीं, 11 लोग जख्मी बताए जा रहे हैं। बताया जाता हैं कि 28 सीटर बस में 50 से अधिक लोग सवार थे। सूचना मिलते ही आपदा विभाग (एसडीआरएफ) की टीम तीन हेलिकॉप्टर से मौके पर पहुंची और राहत-बचाव का काम शुरू किया। हादसे में मारे गए लोगों में ज्यादातर स्थानीय थे।

meridiyan 1

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने मृतकों के परिवार वालों को 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है। पौड़ी के पुलिस अधीक्षक जगतराम जोशी ने बताया कि हादसा सुबह उस समय हुआ जब भवन से रामनगर जा रही निजी बस कबीन गांव के पास अचानक नियंत्रण खो बैठी और 200 मीटर गहरी खाई में गिर गयी। उन्होंने बताया कि दुर्घटना में 45 यात्रियों की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि दो अन्य ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। हादसे में 11 अन्य यात्री घायल हो गये हैं जिनमें से दो की हालत नाजुक बतायी जा रही है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि गंभीर रूप से घायल दोनों यात्रियों को रामनगर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है जबकि अन्य घायल धूमाकोट के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती हैं।जोशी ने बताया कि हादसे के समय बस में कुल 58 यात्री सवार थे। हालांकि, क्षमता से अधिक यात्रियों के सवार होने के कारण हादसा होने की बात पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हादसे के सही कारण का अभी पता नहीं चल पाया है।

LOHIYA 5

 पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी ने बताया कि पुलिस और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) की टीमें मौके पर हैं तथा उनकी मदद से बचाव और राहत कार्य चलाया जा रहा है।उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि बचाव और राहत कार्य जल्द से जल्द पूरा हो और पीड़ितों को समय रहते यथासंभव मदद उपलब्ध करायी जा सके। प्रदेश के राज्यपाल डॉ केके पाल और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बस हादसे पर गहरा दुख जताया है और जिला प्रशासन को पीड़ितों की समुचित देखभाल करने के निर्देश दिये हैं। यहां जारी अपने शोक संदेश में मुख्यमंत्री रावत ने दुर्घटना में मारे गये यात्रियों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन को तत्काल राहत पहुंचाने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये तथा घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि अविलंब उपलब्ध कराने को कहा है।

Share

Related posts

Share