Breaking News

जौनपुर जनपद में दलित बस्ती आग प्रकरण : सीएम के तेवर सख्त, थानाध्यक्ष लाइन हाजिर, 58 नामजद व 100 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज

पंकज तिवारी
-सीएम ने सख्त, आरोपियों पर गैंगस्टर और एनएसए लगाने का दिया आदेश
-पुलिस हरकत में, 35 लोग गिरफ्तार, अन्य की तलाश
-दो समुदायों के बच्चों के बीच हुआ था विवाद

जौनपुर। वैश्विक महामारी में भी अपराध का ग्राफ रूकने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को बच्चों के बीच उपजे विवाद इतना बढ़ा कि दबंगों ने चढ कर कई दलितों के घरों में जहां आग लगा दिए वहीं दलितों की बस्ती में जमकर ताडंव किया। इस घटना की गूंज जौनपुर से लेकर लखनऊ तक देखने को मिली। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को संज्ञान में लेते हुए आरोपियों के खिलाफ रासुका लगाने के आदेश दिए हैं। सीएम के एक्शन में आते ही सरायख्वाजा थानाध्यक्ष संजीव मिश्रा लाइन हाजिर कर दिया गया। जबकि महीने भर पहले ही संजीव मिश्रा की तैनाती हुई थी। इस बीच जिला पुलिस ने 35 लोगों को गिरफ्तार कर अन्य लांेगो के पकडने के लगातार दबिस दे रही है।


घटना को लेकर तनाव के चलते गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। बुधवार को दोपहर में पहुंचे वाराणसी मंडल के आयुक्त दीपक अग्रवाल व आइजी विजय सिंह मीणा ने स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने पीड़ितों को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने व क्षतिपूर्ति का आश्वासन दिया। वहीं पुलिस कार्रवाई से डरे-सहमे वर्ग विशेष के अधिकतर पुरुष सदस्य गांव से पलायन कर गए हैं।
गौरतलब है कि सरायख्वाझा थाना क्षेत्र के भदेठी गांव में मंगलवार को दलितों के कुछ बच्चे बकरियां चरा रहे थे। वहीं एक दूसरे समुदाय के कुछ बच्चे आ गए। दोनों पक्षों के बच्चों के बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ा कि उसमें बड़ों के बीच झगड़ा होने लगा। बताया जाता है कि उस समय कुछ लोंगो के हस्तक्षेप के बाद दोनों पक्षों के बीच बातचीत के बाद मामला शांत हो गया लेकिन रात में एक पक्ष ने दलित बस्ती में जाकर बस्ती में आग लगा दी। जिससे कई दलितों के घर जलकर राख हो गए। लोग अपनी जान किसी तरह से बचाकर बाहर निकल आए लेकिन कई जानवर व लोगों की पूरी गृहस्थी जलकर खाक हो गई। जबकि दूसरे वर्ग के लोगों का आरोप है कि उपद्रव के दौरान अनुसूचित बस्ती के लोगों ने खुद अपने घरों में आग लगाई। बताया जाता है कि बकरी व भैंस चराने को लेकर विवाद गंभीर घटना का कारण बना।

घटना की गूंज लखनऊ तक पहंुच गयी जिसपर सीएम योगी ने तत्काल इस घटना को संज्ञान में लेते हुए इस पर पुलिस को एक्शन लेने के साथ आरोपियों पर गैंगस्टर और एनएसए लगाने का दिया आदेश दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू की। पुलिस ने बताया कि अब तक इस मामले में 35 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। बाकी आरोपियों की तलाश में दबिश दी जा रही है। जल्द ही बाकी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस ने बताया कि घटना के दो मुख्य आरोपी नूर आलम और जावेद सिद्दीकी हैं। सीएम ने पीड़ित परिवारों के नुकसान की भरपाई के लिए सीएम सहायता कोष से 10,26,450 रुपये आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। वहीं समाज कल्याण विभाग से पीड़ित परिवारों को 1-1 लाख रुपये दिए जाएंगे। 7 पीड़ित परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत आवास दिए जाने की घोषणा भी की गई है। वहीं दूसरी ओर स्थानीय एसएचओ के विरुद्ध लापरवाही बरतने पर विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं।

Share

Related posts

Share