Breaking News

जौनपुर मल्हनी विधानसभा उपचुनाव : निषाद पार्टी के प्रत्याशी एवं पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने किया शंखनाद

पंकज तिवारी
-सपा ने भी गढ बचाने के लिए झोकी अपनी ताकत
-भाजपा भी उपचुनाव को लेकर आरपार के मूड में

जौनपुर। मल्हनी विधानसभा उपचुनाव में अपनी-अपनी पार्टी का परचम लहराने के लिए पार्टियों ने अब शंखनाद कर दिया है। रविवार को निषाद पार्टी के प्रत्याशी एवं पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने भी अपने सैकडों समर्थकों के साथ रविवार को चुनाव प्रचार कर यह एहसास दिलाने की कोशिश की हम किसी के कम नहीं हैं। धनंजय सिंह के पूरे दमखमक े साथ चुनाव प्रचार में उतरने से अब जनपद में राजनीति सरगर्मी तेज हो गयी है। पूर्व सांसद धनंजय सिंह के तूफानी चुनाव प्रचार के अंदाज से जहां उनके पार्टी के कार्यकर्ताओं के हौसले बुलन्द हैं वहीं सपा, काग्रेंस व भाजपा की नींद उड गयी है। वैसे यह सीट तीनों पार्टियों के वजूद की लडाई है। यह देखना दिलचस्प होगा कि इस कोरोना जैसे वैश्विक महामारी में यह उपचुनाव को जीतने के लिए पार्टी किस तरह का रूख अख्तियार करती है।
गौरतलब है कि मल्हनी विधानसभा की सीट समाजवादी पार्टी के पारसनाथ यादव के निधन के बाद रिक्त हुई। सपा प्रत्याशी व उसके कार्यकर्ता सपा के दामन में सीट पुनः जीत कर अपने दिवंगत पारसनाथ यादव को सच्ची श्रद्धांजलि देना चाहते हैं। वहीं भाजपा भी इस सीट को अपने स्वाभामान से जोड कर देख रही है। वह भी इस सीट को किसी तरह से जीतना चाहती है। कांग्रेस भी पूरे दमखम के साथ चुनाव में उपरती नहीं दिख रही है लेकिन जिस ढंग से रविवार को चुनाव के पहले दिन जिस तरह से धनंजय सिंह व उनके कार्यकर्ताओं ने मल्हनी उपचुनाव का शंखनाद किया उससे इस चुनाव को जीतना सपा, भाजपा व कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगा।

पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने मल्हनी विधानसभा उपचुनाव को जीतने के लिए जो रणनीति बनायी है वह यह साबित करता है हर पार्टी की सीधी टक्कर उन्हीं से ही है। इसका सबसे बडा कारण जनपद में बराबर सक्रियता व अपना खुद का जबरदस्त वर्चस्व है कि अन्य दलों को पटकनी देने में कामयाब होते नजर आ रहे है। पूर्व सांसद ने पहले ही दिन 374 बूथों पर निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ जिस तरह से जोरशोर से प्रचार प्रारम्भ किया उससे अन्य पार्टियों की नींद उड गयी है। अपनी रणनीति पर बोलते हुए धनंजय सिंह ने कहा कि हर बूथ पर 25 कार्यकर्ता तैनात किए गये हैं जो अपने बूथ व एरिया पर नजर रखेंगे। बहरहाल कुछ भी हो मल्हनी का उपचुनाव का परिणाम जो भी हो लेकिन प्रचार व बर्चस्व की लडाई देखना दिलचस्प होगा।

Share

Related posts

Share