Breaking News

दहेज में स्कार्पियो न मिलने पर दुल्हा का शादी से इन्कार, रात भर राह देखती रही दुल्हन

मोहित श्रीवास्तव
– बुलेट के जगह अचानक स्कार्पियों व 10 लाख की मांग

जौनपुर। कितना की क्यों न सरकार बेटी बचाओं का नारा लगाती रहे लेकिन आज भी कदम-कदम पर बेटी का छला जा रहा है। आज भी उसे एक वस्तु से ज्यादा कुछ नहीं समझा जाता है। दहेज की वेदी पर न जाने कितनी ही बेटियों ने अपनी आहुति दी और कितनी आहुति देंगी किसी को नहीं पता। जौनपुर जिले में एक दुल्हन रात भर सजधज कर अपने दुल्हे का इन्तजार करती रही लेकिन उसके होने वाले दुल्हे ने केवल इस बात से बारात लाने से इन्कार कर दिया कि उसे दहेज में स्कार्पियों सहित 10 लाख रूपये चाहिए था। हर तरह से बात मनौवल के बाद भी बात नहीं बनी तो अन्ततः दुल्हन के चाचा ने दुल्हे व उसके पिता के खिलाफ दहेज प्रतिषेध अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज करा दिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार खमपुर गांव निवासी युवती की शादी नेवढ़िया थाना क्षेत्र के गुतवन गांव निवासी उदयराज के पुत्र रवींद्र यादव से तय थी। पहले यह शादी मई में होनी थी, लेकिन लॉकडाउन के कारण इसे नवंबर में टाल दिया गया था। दुल्हन के चाचा के मुताबिक शादी में एक बुलेट बाइक व दो लाख रुपये नकद देना तय हुआ लेकिन अचानक सोमवार को शादी के दिन दोपहर में बुलेट की जगह स्कार्पियो और दो की जगह दस लाख रुपये की मांग की जाने लगी। दुल्हन के परिवारवालों ने मांग पूरी करने में अपनी असमर्थता पूरी तरह से जताई तो दूल्हे ने बरात लाने से इंकार कर दिया। घंटों मान-मनौवल हुई, मगर बात नहीं बनी। तब भी दुल्हन के घर वालों को आशा थी कि दुल्हा बारात लेकर आयेगा और उन्होंने शादी की पूरी तैयारी कर रखी थी, यहा तक कि दुल्हन भी सजधज कर तैयार थी लेकिन जब उन्हें पता चला कि सच में दुल्हा ने बारात लेजाने से इन्कार कर दिया तो दुल्हन के परिवार वालों पर पहाड टूट पडा।
आखिरकार दुल्हन के चाचा के तहरीर पर दुल्हा रवींद्र यादव और पिता उदयराज यादव के विरुद्ध दहेज प्रतिषेध अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

Share

Related posts

Share