Breaking News

दुनिया की 100 प्रभावशाली लोगों में शामिल हुई काशी की बेटी डॉ. रंजना कुमारी

डॉ. रंजना कुमारी


विजय श्रीवास्तव

अपॉलिटिकल की दूसरी वार्षिक सूची में वर्ष 2019 के लिए लैंगिक नीति में 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में शामिल
-पूरे विश्व में 9000 नामांकन में 100 में बनाया स्थान
नई दिल्ली। कभी-कभी जीवन में घटी छोटी-छोटी घटनाएं व्यक्ति के जीवन की दिशा को बदल देती हैं। कुछ ऐसा ही महिला अधिकार के क्षेत्र में कार्यरत एक प्रख्यात संगठन, सेंटर फॉर सोशल रिसर्च की निदेशक डॉ. रंजना कुमारी के जीवन में हुआ, जब 1976 में घर के समीप हुई एक महिला की दहेज से हुई हत्या की घटना ने डॉ रंजना को अंदर से झकझोर दिया और घटना से आहत होकर उन्होंने अपना जीवन महिलाओं के उत्थान के लिए लगाने का संकल्प किया। आज उसी का परिणाम है कि डाॅ रंजना कुमारी को अपॉलिटिकल की दूसरी वार्षिक सूची में वर्ष 2019 के लिए लैंगिक नीति में 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में शामिल किया गया हैं।
.सेंटर फॉर सोशल रिसर्च की निदेशक डाॅ रंजना कुमारी को मिला वैश्विक सम्मान उनके अपने जीवन में महिलाओं के अधिकारों के लिए एक लम्बे समय तक किए गये संघर्ष का प्रतिफल है। गौरतलब है कि कई देशों की सरकारों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और शैक्षणिक समुदायों की ओर से प्राप्त 9000 से अधिक नामांकन के आधार पर इस सूची को तैयार किया गया है, जिनमें यूएएन वुमन, वुमन डिलिवर, वुमन इन ग्लोबल हेल्थ, जी-7 जेंडर इक्वलिटी एडवाइजरी काउंसिल, हार्वर्ड और गेट्स फाउंडेशन शामिल थे। जिसमें मुख्य रूप से फुमजिले म्लम्बो-न्गुका, कार्यकारी निदेशक, यूएन वुमनरूथ बेडर-गिन्सबर्ग, अमेरिका सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधी शकैरेन ग्रोन, विश्व बैंक समूह में लैंगिक विषयों के वरिष्ठ निदेशक मिशेल बेचेलेट, मानवाधिकार के लिए उच्चायुक्त, संयुक्त राष्ट्रमिशेल ओबामा, संस्थापक, ग्लोबल गर्ल्स एलायंसबिनेटा डिओप, संस्थापक, फिम्मेस अफ्रीका सॉलिडेराईटमरियम जलाबी, संस्थापक सदस्य, सीरियाई महिला राजनीतिक आंदोलनमार्गोट वालस्ट्रॉम, विदेश मंत्री, स्वीडन की प्रमुख है।
इस सन्दर्भ में डॉ. रंजना कुमारी ने कहा कि लैंगिक नीति में 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल होना मेरे लिए बेहद सम्मान की बात है। मैं सभी विजेताओं और नामित व्यक्तियों को बधाई देती हूं। अपॉलिटिकल की सूची इस बात का प्रमाण है कि पूरी दुनिया में हजारों लोग लैंगिक समानता के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। पूरी दुनिया में बहुत सारे अच्छे कार्य हो रहे हैं, साथ ही पूरे विश्व को महिलाओं के लिए न्यायसंगत स्थान बनाने की दिशा में अभी भी बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है।
डॉ. रंजना कुमारी: संक्षिप्त परिचय
डॉ. रंजना कुमारी ने अपना जीवन दक्षिण एशियाई क्षेत्र में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए काम करते हुए समर्पित कर चुकी हैं। उनकी स्कूली शिक्षा वाराणसी, उत्तर प्रदेश में हुई। उनके दादा एक स्वतंत्रता सेनानी पंडित विश्वनाथ शर्मा थे, जो वाराणसी के प्रसिद्ध काशी विद्यापीठ के संस्थापक सदस्य थे। रंजना कुमारी की स्कूली शिक्षा वाराणसी से हुई, जिसके बाद वो दिल्ली चली गईं, जहां उन्होंने जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में एमए, एम.फिल और पीएच.डी. की उपाधि प्राप्त की। साल1976 में उनके घर के पास एक महिला की दहेज के लिए हत्या कर दी गई थी, इस घटना ने डॉ रंजना को अंदर से झकझोर दिया और घटना से आहत होकर उन्होंने अपना जीवन महिलाओं के उत्थान के लिए लगाने का निश्चय किया। इसके बाद उन्होंने महिला विकास के अनेकों काम किए।

Share

Related posts

Share