Breaking News

पं दीनदयाल उपाध्याय प्रतियोगिता को ग्रिनीज बुक में दर्ज करने की तैयारी : अमिताभ

bj
विजय श्रीवास्तव
-देश के इतिहास को बामपंथियों ने अपने चश्मे से लिखा: धमेन्द्र सिंह
-तीन लाख से अधिक लोग लेंगे परीक्षा
-एक साथ पूरे प्रदेश के हाईस्कूल व इण्टर कालेजों में होगी परीक्षा
वाराणसी। देश की आजादी के बाद जो इतिहास इस देश में लिखा गया वह बामपंथियों ने अपने चश्में से लिखा। जिससे देश की संस्कृति, परम्पराओं व रीति रिवाज को इसने बहुत प्रभावित किया है। जिससे आज हम कई अपनी प्राचीन परम्पराओं व संस्कृतियों को भूल चुके हैं। इतिहास में बहुत से ऐसे लोंगो को जगह नहीं दी गयी जिन्होंने देश के निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।
उक्त बातें आज पंचकोशी  में  स्थित एक कालेज में पं. दीनदया उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह के अन्तर्गत होने वाले सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता के दृष्टिगत कार्यशाला में विशिष्ठ अतिथि  के पद से वरिष्ठ नेता व संयोजक धमेन्द्र सिंह ने कहीं। उन्हेांने कहा कि अब बदलने का समय आ गया हेै। पं. दीनदयाल उपाध्याय के योगदान को इतिहास में आज तक जगह नहीं मिली। सरकार ने इस दिशा में पहल प्रारम्भ कर दिया है। जिसके तहत प्रदेश में पं दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह के तहत सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता करायी जा रही है। बच्चे देश का भविष्य होते हैं। उन्हें उर्जा, दिशा व तरासने की जरूरत है। जिससे वे एक सफल भारत, सम्पन्न भारत की कल्पना को साकार कर सके।
क्षेत्रिय संयोजक अमिताभ जी ने कहा कि किसी भी गैर संस्थान द्वारा आयोजित पं दीनदयाल उपाध्याय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता को विश्व की सबसे बड़ी प्रतियोगिता आयोजित करने की तैयारी है। जो एक समय पर पूरे प्रदेश के हाईस्कूल व इण्टर कालेेज में आयोजित होगा। इस प्रतियोगिता को सम्पन्न कराने में 3 लाख से अधिक  कार्यकर्ता भाग लेंगे। सरकार का प्रयास है कि इस प्रतियोगिता को ग्रिनीज बुक में स्थान मिले। यह परिक्षा कक्षा 9 व 10 के छात्रों के बीच आयोजित होगी।
स्ंाचालन करते हुए संयोजक मुरलीधर सिंह ने कहा कि पं दीनदयाल उपाध्याय एक भारतीय विचारक, समाजशास्त्री थे। उनके द्वारा स्थापित जनसंघ की चिनगारी आज बट वृक्ष का रूप ले चुकी है। धन्यवाद ज्ञापन संयोजक उमाशंकर गुप्त ने किया।
उक्त अवसर पर महानगर उपाध्यक्ष अरूण सिंह, महानगर प्रभारी पियुष वर्धन सिंह, सारनाथ वार्ड अध्यक्ष अवधेश राय, विजेन्द्र मौर्य, अनील पाण्डेय, रवि शंकर अंगारा, मुन्नु राजभर, संजय जायसवाल, राजेश यादव व महेन्द्र जायसवाल सहित सभी मंडलों के कमेटी के सदस्य उपस्थित रहे।

Share

Related posts

Share