Breaking News

पुणे पुलिस का दावा: माओवादी के टारगेट पर हैं पीएम मोदी, ‘राजीव गांधी हत्याकांड‘ की तरह रच रहे थे साजिश

pm-mod

-माओवादी के मिले चिट्ठी से हुआ खुलासा
-चिट्ठी में 8 करोड़ रुपये इकट्ठा करने की बात कही गई है
-जिससे एम-4 राइफल और 4 लाख राउंड कारतूस चलाने की व्यवस्था की जा सके
नई दिल्ली। माओवादी से मिले एक चिट्ठी ने हडकंप मचा दिया है। पुणे पुलिस का दावा है कि माओवादी ‘राजीव गांधी हत्याकांड‘ की तरह पीएम मोदी के खिलाफ साचिश रच रहे हैं। पुणे पुलिस ने कोर्ट में एक चिट्ठी पेश कर दावा किया है। यह चिट्ठी भीमा-कोरेगांव हिंसा में पकड़े गए 5 लोगों से पूछताछ के दौरान बरामद किया हैं। 18 अप्रैल को रोणा जैकब द्वारा कॉमरेड प्रकाश को लिखी गई चिट्ठी में कहा गया है कि हिंदू फासिस्म को हराना अब काफी जरूरी हो गया है। मोदी की अगुवाई में हिंदू फासिस्ट काफी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, ऐसे में उन्हें रोकना जरूरी हो गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस चिट्ठी में 8 करोड़ रुपये इकट्ठा करने की बात कही गई है ताकि एम-4 राइफल और 4 लाख राउंड कारतूस चलाने की व्यवस्था की जा सके। साथ ही एक और ‘राजीव गांधी जैसी घटना‘ का जिक्र है। यह बात सरकारी वकील उज्ज्वला पवार ने कोर्ट को बताई है। चिट्ठी के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘हम राजीव गांधी वाली घटना की तरह कुछ सोच रहे हैं। यह आत्मघाती लगता है और खतरनाक भी. हो सकता है कि हम फेल हो जाएं लेकिन पार्टी को हमारी इस योजना के बारे में सोचना चाहिये।‘ एनआईए की ओर से जारी इस चिट्ठी में लिखा है कि बिहार और पश्चिम बंगाल में हार के बाद भी मोदी ने 15 राज्यों में बीजेपी की सरकारें बनवा दी हैं। अगर ऐसा जारी रहा तो पार्टी (उनके लिये) हर मोर्चे पर मुश्किल पैदा हो जाएगी। कर्नल किशन और कई वरिष्ठ कामरेड मोदी युग को खत्म करने के लिये मजबूत कदम उठाने का प्रस्ताव दिया है। पुणे पुलिस ने इनको ‘अरबन माओइस्ट‘ का शीर्ष नेता बताया है और इनको जनवरी में हुई भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले में बुधवार को गिरफ्तार किया है। पीटीआई में छपी खबर की मानें तो यह चिट्ठी रोना विल्सन के दिल्ली आवास से बरामद हुई है। रोना विल्सन इस समय राजनीतिक कैदियों की रिहाई के लिये बनाई गई समिति के सदस्य हैं।

 

Share

Related posts

Share