Breaking News

पुलिस का खौफ अपराधियों को दिखना चाहिए : योगी

yyyyyyy

विजय श्रीवास्तव
-गुंडा तत्वों तथा माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही तेज करने का निर्देश
-जल निगम अधिकारियों को लगाई जमकर फटकार
-विकास कार्यो को समय से पूरा करने का निर्देश
वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र का गुरूवार की सर्द रात में जमीनी हकीकत जान कर आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आयुक्त सभागार में चल रहे समीक्षा बैठक में अधिकारियों की जमकर खिचाई की। बैठक में योगी अपने पूरे फार्म में दिखे। उन्होंने जहां पुलिस को कहर बन कर अपराधियों पर टूटने को कहा तो वहीं विकास कार्य में तेजी के साथ गुणवत्ता भी लाने का सख्त निर्देश दिया।
समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री योगी ने शहर में चल रहे विकास कार्यों को जनवरी के अंत तक पूरा करने का निर्देश दिया। उन्होंने सड़कों पर चल रहे केबल डालने कार्य को भी हर स्तर पर जनवरी में पूर्ण की हिदायत दी। जिससे फरवरी से सड़कों के निर्माण तथा लेपन का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू हो सके। उन्होंने कहा कि इस मामले में लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। इस दौरान जल निगम अधिकारियों की जमकर खरी खोटी सुनाई। समीक्षा बैठक में कानून व्यवस्था पर चर्चा करते हुए योगी ने कहा कि कानून व्यवस्था की स्थिति पहले से जरूर सुधरी है लेकिन अभी सुधार की तमाम गुंजाइश है । उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि थाने व डायल 100 की गाड़ियों की पेट्रोलिंग बढ़ाएं ,ताकि गंभीर अपराध पर काबू पाया जा सके। उन्होंने कहा कि पुलिस को खुली छूट मिली है तो पुलिस का खौफ अपराधियों पर दिखना भी चाहिए। उन्होंने गुंडा तत्वों तथा माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही तेज करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि ठेकेदारी के नाम पर कहीं भी गुंडई नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री को पता चला था कि शहर के 10 जोन में पेयजल सप्लाई काम पूरा होने के बावजूद बाधित है । उन्होंने अधिकारियों से कारण जानना चाहा तो बताया गया कि पेयजल लाइन को आपस में जोड़ा ही नहीं गया है। कई जगह गैप होने के कारण शुद्ध पेयजल की सप्लाई नहीं हो पा रही है । 31 इलाकों में इन कमियों को दूर कर लिया गया है लेकिन 10 जोन में यह कार्य अभी बाकी है । उन्होंने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए उस वक्त तैनात जिम्मेदार अभियंता ठेकेदार समेत सभी कर्मचारियों की सूची तलब करते हुए कठोर कार्यवाही का निर्देश दिया। सीएम योगी ने मेयर व नगर आयुक्त से कहा कि वे प्रतिदिन 2 वार्डों का दौरा करें। जिससे कार्यो का भौतिक सत्यापन का हो सके। कूड़ा उठान व साफ सफाई पर नजर रखने के साथ यह भी कहा कि चैकाघाट फ्लाईओवर समेत तमाम विकास कार्य अपने पूर्ण समय अवधि परिपूर्ण हो वरना अधिकारी नपेंगे। समीक्षा बैठक के दौरान कई अधिकारियों पर मुख्यमंत्री ने जमकर डाट पिलाई।
इस अवसर पर सूचना एवं पर्यटन सचिव अवनीश अवस्थी, पुलिस विभाग के डीजी विश्वजीत महापात्रा, कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण, जिला अधिकारी योगेश्वर राम मिश्र, नगर आयुक्त नितिन बंसल,आईजी ,एसपी समेत सभी विधायक व जिला पंचायत अध्यक्ष के अलावा मेयर समेत कई विभागों के अधिकारी मौजूद रहे ।

Share

Related posts

Share