पैन कार्ड के बिना पेमेंट करने पर देना होगा दोगुना टैक्स

Pan-Card
-काले धन वालों पर लगाम की तैयारी
-नये ढ़ंग के पैनकार्ड में सुरक्षा के सभी उपाय
नई दिल्ली। कालेधन वालों पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने एक और कदम उठाया है। अब बिना पेैन नम्बर के भुगतान करने पर दोगुना टैक्स काटा जायेगा। वैसे सरकार के इस फैसले से आम आदमी भी प्रभावित होगा क्योंकि अभी भी एक बड़ी संख्या में लोंगो के पैन कार्ड नहीं है। जिससे आम आदमी भी इस जद में आयेंगे।
गौरतलब है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट 2017-18 में इस बात का जिक्र किया है कि देश में अब किसी तरह का भुगतान करने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य होगा। किसी भुगतान में यदि पैन नंबर नहीं दिया जाता है तो उस भुगतान पर दोगुना टैक्स काटा जाएगा। वर्तमान समय में 1 लाख रुपये से अधिक की किसी खरीदारी के लिए पैन कार्ड अनिवार्य था। पैन नंबर को सभी भुगतानों के लिए अनिवार्य करने के साथ-साथ सरकार ने प्रावधान किया है कि जिन भुगतानों में श्रोत पर टैक्स (टीडीएस) काटा जाता है, यदि वहां पैन नंबर का जिक्र नहीं किया गया तो भुगतान करने वाले से दोगुना टीडीएस वसूला जाएगा।
टीडीएस नियमों के मुताबिक एक निश्चित तरह का भुगतान करने वाले व्यक्ति को पैसा देने से पहले तय दर से टैक्स काटकर केन्द्र सरकार के खजाने में जमा कराना होता है। वहीं भुगतान लेने वाला व्यक्ति इस जमा टैक्स के ऐवज में सरकार से अपना टैक्स रिटर्न भरते वक्त क्लेम ले सकता है। अब ऐसे सभी ट्रांजैक्शन जहां टीडीएस काटना अनिवार्य है, भुगतान करने वाले को पैन नंबर का हवाला देना होगा। पैन नंबर न देने की स्थिति में उससे दोगुना दर से टीडीएस वसूला जाएगा।
गौरतलब है कि बजट से पहले केन्द्र सरकार ने देश में नए पैन कार्ड को जारी करना शुरू कर दिया है. बैंकिंग और टैक्स व्यवस्था में फर्जीवाड़े को रोकने के लिए केन्द्र सरकार ने 1 जनवरी 2017 से नया पैन कार्ड (पर्मानेंट अकाउंट नंबर) जारी किया है. नया पैन कार्ड मॉडर्न सिक्योरिटी फीचर्स से लैस है और इसे टैंपर करना नामुमकिन है।

Share

Leave a Reply

Share