Breaking News

भारी बारिश भी नहीं डिगा पायी बिजली कर्मियों का हौसला, कुर्सियों को छाता बना कर निजीकरण का किया जोरदार विरोध प्रदर्शन

विजय श्रीवास्तव
-निजीकरण का प्रयोग पूरे देश मे रहा फेल फिर निजीकरण क्यों ?
-दमनात्मक कार्यवाही की गई तो बिजली कर्मचारी एवं अभियंता जाएंगे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

वाराणसी। जोरदार बारिस भी आज विद्युत कर्मचारी का हौसला डिगा नहीं पायी। क्या अभियंता क्या बिजलीकर्मी सभी डटे रहें। संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले वाराणसी के समस्त अभियंताओं एवं बिजलीकर्मियों ने आज तीसरे दिन भी सायं 4 बजे से 5 बजे तक प्रबंध निदेशक कार्यालय के बाहर भारी बारिश के बीच भी किया जोरदार विरोध प्रदर्शन किया, इतना ही नहीं जब बारिस तेज हो गयी तो कुर्सी को सर पर रख कर डटे रहें।
वक्ताओं ने बताया कि निजीकरण का प्रयोग पूरे देश में अभी तक कहीं भी सफल नहीं हो सका है। निजी क्षेत्र का एक मात्र उद्देश्य सिर्फ लाभ कमाना है जबकि पूर्वांचल विद्युत निगम बिना भेदभाव के किसानों और गरीब उपभोक्ताओं को बिजली आपूर्ति कर रहा है। निजी कंपनी अधिक राजस्व वाले वाणिज्यिक और औद्योगिक उपभोक्ताओं को प्राथमिकता पर बिजली देगी।


वक्ताओं ने यह भी बताया कि अभी किसानों, गरीब रेखा से नीचे और 500 यूनिट प्रति माह बिजली खर्च करने वाले उपभोक्ताओं को सब्सिडी मिल रही है, जो निजीकरण के बाद खत्म होगी। बिजली जैसी मूलभूत सुविधा का निजीकरण कभी भी सरकारी क्षेत्र का विकल्प नहीं हो सकता है। बिजली जरूरत को निजी हाथों में सौंपने से प्रदेश के आम विद्युत उपभोक्ताओं के ऊपर विद्युत मूल्य का अतिरिक्त भार बढ़ेगा जो उन्हें वहन करना पडेगा । इसके साथ ही कारपोरेशन एवं सरकार पर वित्तीय नुकसान का कारण भी बने हुए है ।
यदि सरकार द्वारा पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण का प्रस्ताव वापस नहीं लिया गया और किसी भी कर्मचारी या अभियंता पर दमनात्मक कार्यवाही की गई तो उत्तर प्रदेश के सभी बिजली कर्मचारी एवं अभियंता अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे जिसकी पूरी जिम्मेदारी प्रबंधन एवं सरकार की रहेगी।
सभा को सर्वश्री ई0 चंद्रेशखर चैरसिया,ई0 सुनील यादव, आर0के0 वाही, ए0के0 श्रीवास्तव,ई0 संजय भारती, राजेन्द्र सिंह, डॉ0 आर0बी0 सिंह, मायाशंकर तिवारी, रमन श्रीवास्तव, हेमन्त श्रीवास्तव, रमाशंकर पाल, जगदीश पटेल, वीरेंद्र सिंह, मदन श्रीवास्तव, जिउतलाल,अंकुर पाण्डेय, शिवेंद्र यादव, मनोज कुमार, संतोष वर्मा, अमितानंद त्रिपाठी, संतोष कुमार आदि वक्ताओं ने संबोधित किया।

Share

Related posts

Share