Breaking News

मजदूरों के लिए कांग्रेस चलाएगी 1000 बसें, योगी सरकार ने मानी प्रियंका गांधी की मांग

न्यूज डेस्क
-कांग्रेस ने रखा था योगी सरकार के समक्ष 1000 बसें देने का प्रस्ताव
-इन बसों को यूपी बॉर्डर पर खड़ा किया गया था

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर दिया योगी सरकार को धन्यवाद
-दलगत राजनीति से ऊपर उठकर योगी सरकार ने लिया फैसला


लखनऊ। कोरोना वैश्विक महामारी ने हर किसी को झकझोर कर रख दिया है। विपक्षी पार्टी कांग्रेस भी कोरोना से जूझ रहे मजदूरांे के लिए सडक पर उतर चुकी है। जिसके दृष्टिगत कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने योगी सरकार को कांग्रेस की ओर से 1000 बसों को देने का प्रस्ताव किया था। जिसे योगी सरकार ने आखिरकार स्वीकार कर लिया है। सरकार ने कांग्रेस से बसों के संबंध में पूरी जानकारी मांगी है। प्रियंका गांधी ने योगी सरकार द्धारा बसों को चलाने की अनुमति मिलने पर ट्वीट कर धन्यवाद करते हुए कहा कि इससे पैदल चलने वालों को काफी राहत मिलेगी। हम यूपी के लोगों के साथ खडे हैं। हम आश्वस्त करते हैं कि हमसब सकारात्मक भाव से महामारी से लडेेंगे, हम संकट का सामना करने के लिए खडें हैं।


गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते प्रवासी मजदूरों की दशा पर केंद्र और प्रदेश सरकार को कोरोना पर लगातार घेरने वाली कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पिछले हफ्ते 16 मई को पत्र लिखा था। प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कहा था कि प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित उनके घर पहुंचाने के लिए कांग्रेस अपने स्तर पर बसें चलाना चाहती है. उन्होंने मुख्यमंत्री से यह मांग की थी कि सरकार कांग्रेस को 1,000 बसों के परिचालन की अनुमति दें। बस का पूरा खर्च कांग्रेस पार्टी उठाएगी।


इस सन्दर्भ में कांग्र्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व में नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचकर प्रियंका गांधी के प्रस्ताव को दिया था। जिसमें कांग्रेस की ओर से उत्तर प्रदेश सरकार को 1000 बसें देने का प्रस्ताव रखा गया था, साथ ही इन बसों को यूपी बॉर्डर पर खड़ा किया गया था। लेकिन, यूपी सरकार ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था और कहा था कि सरकार की ओर से पर्याप्त मात्रा में बसों का इंतजाम किया जा रहा था। अब योगी सरकार ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के 1000 बसों का प्रस्ताव स्वीकार करते हुए चालक, परिचालक का नाम समेत सूची मांगी है। जिससे इनका उपयोग प्रवासी श्रमिकों की सेवा में किया जा सके।


उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने प्रियंका गांधी वाड्रा को जवाबी पत्र में कहा है कि मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र में प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए अपने स्तर पर 1,000 बसों को चलाने के आपके प्रस्ताव को स्वीकार किया जाता है।

Share

Related posts

Share