Breaking News

महिलाओं के साथ गरीब वर्ग के लिए भी मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, 80 करोड़ गरीबों को 3 महीने तक 10 किलो अनाज फ्री

विजय श्रीवास्तव
-वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1.70 लाख करोड़ के पैकेज का किया ऐलान
-कोई गरीब भूखा न सोए, यह कोशिश रहेगी: वित्त मंत्री
-जनधन खातों में लगातार तीन माह 500 रूपये की सहायता
-हेल्थ वर्कर्स को अगले 3 महीने के लिए 50 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के संक्रमण से आज पूरा देश जूझ रहा है, जिसके दृष्टिगत पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन का एलान पीएम नरेन्द्र मोदी ने की है। 21 दिन के लाकॅडाउन ने समाज के हर वर्ग को झकझोर कर रख दिया है। ऐसे में आम लोगों और खासकर गरीबों की परेशानी काफी बढ गयी है। जिसकों देखते हुए सरकार ने आज फिर विशेष कर महिलाओं व गरीब वर्गो के लिए राहत की घोषणा की है। जिसमें 20 करोड महिलाओं को अगले तीन माह उनके जनधन खातों में प्रतिमाह 500 रूपये के साथ तीन माह प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 80 करोड लोंगो को 10 किलो चावल या गेहूं और एक किलों दाल फ्री देने का एलान किया है। जिन गरीब महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त गैस कनेक्शन मिले हैं, उन्हें अगले 3 महीने तक मुफ्त गैस सिलेंडर मिलेंगे। इसके साथ ही अन्य कई राहत का एलान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को तीन दिन में दूसरी प्रेस कॉन्फ्रेंस में की।
प्रेस काॅन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश रहेगी कि गांवों और शहरों में रहने वाला कोई भी गरीब भूखा न सोए। इसके तहत लॉकडाउन में सरकार का राहत पैकेज 80 करोड़ गरीबों को अगले 3 महीने तक 10 किलो चावल या गेहूं और 1 किलो दाल फ्री के साथ गरीब महिलाओं को मुफ्त गैस सिलेंडर दिया जायेगा। इस दौरान उन्होंने कहा कि किसानों के खाते में 2000 रुपए की किश्त अप्रैल के पहले हफ्ते में डाली जाएगी, 8.69 करोड़ किसानों को फायदा होगा। सरकार ने दूसरे राज्यों से आने वाले कामगारों और गरीबों के लिए एक पैकेज तैयार है। यह पैकेज 1.70 लाख करोड़ रुपए का है।
सरकार कोरोनावायरस से लड़ रहे हेल्थ वर्कर्स को अगले 3 महीने के लिए 50 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर भी देने का एलान किया है। जिससे देशभर में 22 लाख हेल्थ वर्कर्स के साथ 12 लाख डॉक्टर्स को फायदा होने वाला हैं। वहीं बुजुर्ग, दिव्यांग और विधवाओं को अगले तीन महीने के लिए दो किश्तों में 1000 रुपए की मदद दी जाएगी। इससे तीन करोड़ लोगों को इसका फायदा होगा। इसके साथ ही मनरेगा रू मजदूरी 182 से बढ़ाकर 202 रुपए की गई।
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने राहत में महिलाओं को सबसे अधिक फोकस करते हुए महिला सहायता समूहों को ज्यादा कर्ज देने का भी एलान किया है। सरकार अब पीएम गरीब कल्याण योजना के तहत महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप के तहत 7 करोड़ परिवारों को फायदा मिलता है, दीन दयाल राष्ट्रीय ग्रामीण जीविका योजना के तहत इन्हें जमानत फ्री लोन दोगुना बढ़ाकर 20 लाख रुपये किया जाएगा।
कर्मचारियों को फायदा देते हुए उन्होंने कहा कि ईपीएफ में राहत देते हुए कर्मचारी 75 प्रतिशत फंड निकाल सकेंगे। सरकार 3 महीने तक इम्प्लॉई प्रोविडेंट फंड में कर्मचारी और नियोक्ता, दोनों का पूरा योगदान खुद देगी। पीएफ फंड रेग्युलेशन में संशोधन किया जाएगा। जमा रकम का 75 प्रतिशत या 3 महीने के वेतन में से जो भी कम होगा, उसे कर्मचारी निकाल सकेंगे। इसके दायरे में 100 से कम कर्मचारियों वाले संस्थानों और 15 हजार से कम तनख्वाह पाने वाले कर्मचारियों को होगा। उन्होंने बताया कि इससे देशभर के 80 लाख से ज्यादा कर्मचारियों और 4 लाख से ज्यादा संस्थानों को फायदा होगा।
कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी उन्होंने राहत की घोषणा करते हुए कहा कि निर्माण क्षेत्र से जुड़े 3.5 करोड़ रजिस्टर्ड वर्कर, जो लॉकडाउन की वजह से आर्थिक दिक्कतें झेल रहे हैं, उन्हें मदद दी जाएगी। इनके लिए 31000 करोड़ रु. का फंड एलाट किया गया है।

Share

Related posts

Share