मूलगंध कुटी विहार के 87 वीं वर्षगांठ पर सारनाथ में विभिन्न कार्यक्रमों का होगा आयोजन, भगवान बुद्ध के पवित्र अस्थि की निकलेगी शोभायात्रा

rammohan

विजय श्रीवास्तव
-21 से 23 नवम्बर तक श्रद्धालु कर सकेंगे भगवान बुद्ध के पवित्र अस्थि का दर्शन
-विद्युत झालरों व फूलमालाओं से सजा सारनाथ
-कार्तिक पूर्णिमा पर जलेंगे हजारों दीप
वाराणसी। मूलगंध कुटी विहार के 87 वें वार्षिकोत्सव के अवसर पर विगत वर्षो की भाॅति इस बार भी भगवान बुद्ध की तपोस्थली सारनाथ में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा। 21 से 23 नवंबर तक तीन दिनों के लिए भगवान बुद्ध की पवित्र अस्थि को श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ मूलगंध कुटी विहार में रखा जायेगा। वहीं 23 नवंबर को पवित्र अस्थि-अवशेषों की शोभा यात्रा मूलगंध कुटी विहार से प्रारम्भ होकर विभिन्न मार्गों से होते हुए सारनाथ खण्डहर परिसर में प्रवेश कर वीआइपी गेट होते हुए मूलगंध कुटी विहार में आ कर समाप्त होगी। इसके साथ ही कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर हजारों दीप प्रज्जवलित किए जायेंगे।
banerr 123
उक्त बातें महाबोधि सोसायटी आॅफ इण्डिया के संयुक्त सचिव व विहार के विहाराधिपति भन्ते के मेघांकर थेरो ने पत्रकार वार्ता के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि 21 नवंबर को प्रातः भगवान बुद्ध की अस्थियों के पारंपरिक पूजन के साथ बुद्ध के पवित्र अस्थि को मूलगंध कुटी विहार में रखा जाएगा जिसका 3 दिन तक देश-विदेश से आएं श्रद्धालु दर्शन करेंगे। इसी क्रम मंे कठिन चीवर पूजा व संघदान भी आयोजित किया जाएगा। 21 नवम्बर को सांय 8 बजे बोधि वृक्ष के समीप महापरित्राण पाठ होगा जो पूरी रात होगा। कार्तिक पूर्णिमा के उपलक्ष्य में धमेख स्तूप, बोधि वृक्ष, मूलगंध कुटी विहार सहित सारनाथ को विद्युत झालरों व पंचशील झंडों से सजाया गया है। 23 नवंबर अपराह्न 3 बजे विश्वशान्ति के लिए धमेख स्तूप पर प्रार्थना के साथ मूलगंध कुटी विहार परिसर में दीप प्रज्जवलित किये जायेंगे। मूलगंध कुटी विहार के 87 वें वार्षिकोत्सव पर अपराह्न 3 बजे सर्वधर्म सभा का आयोजन किया जायेगा। जिसमें भारत में श्रीलंका के उच्चायुक्त आॅस्टिन फर्नांडो मुख्य अतिथि तथा महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के कुलपति प्रो. टी एन सिहं विशिष्ठ अतिथि होंगे। तत्पश्चात भगवान बुद्ध के जीवन पर आधारित सांकृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है।

उक्त अवसर पर महाबोधि विद्या परिषद के अध्यक्ष प्रो राम मोहन पाठक ने मीडिया से बातचीत में बताया कि इस अवसर पर महाबोधि सोसायटी आॅफ इण्डिया द्वारा संचालित महाबोधि विद्या परिषद के अधीन चलने वाले महाबोधि विद्यालय समूह का 85 वां वार्षिकोत्सव 24 नवंबर को आयोजित किया गया है। अपराह्न तीन बजे सार्वजनिक सभा में मुख्य अतिथि वाराणसी के संयुक्त शिक्षा निदेशक अजय कुमार द्धिवेदी होंगे। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता वाराणसी मंडल के उप शिक्षा निदेशक ओंकार शुक्ल होंगे। जबकि जिला विद्यालय निरीक्षक डाॅ वी पी सिंह होंगे। सभा की अध्यक्षता शिक्षक विधायक चेतनारायण सिंह करेंगे। प्रो पाठक ने बताया कि महाबोधि सोसाइटी आॅफ इण्डिया सारनाथ सेन्टर द्वारा ही आज से दो द्धिवसीय पालि एवं बौद्ध धर्म विषयक अंतरराष्ट्रीय संगोठी भी प्रारम्भ हुई हेै।

 

Share

Related posts

Share