Breaking News

लालू यादव के 12 ठिकानों पर फिर सीबीआई का छापा, पत्नी व बेटे पर भी केस

ten
-रेल मंत्री रहते धांधली का आरोप
-सुबह 7.30 बजे एक साथ छापा
-राबड़ी व तेजप्रताप से 8 घंटे तक पूछताछ
पटना। पूर्व रेलमंत्री व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के आज 12 ठिकानों पर सुबह फिर सीबीआई ने एक साथ छापा मारा। जानकारी के मुताबिक अभी तक इन स्थानों पर सीबीआई के अधिकारी डटे हुए है। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री व लालू यादव  की पत्नी राब़ड़ी देवी के साथ बेटे व बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से भी लगभग 8 घंटे तक सीबीआई के अधिकारियों ने पूछताछ की है। वहीं दूसरी तरफ लालू यादव ने इसे विपक्षी एकता को तोड़ने के लिए कार्यवाही बताते हुए कहा है कि उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2006 में रेलवे का होटल निजी कंपनी को देने के मामले में तत्कालीन रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव की मुसीबत बढ़ती दिख रही हैं। राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू प्रसाद यादव के घर पर सीबीआई अफसरों का अभी भी जमावड़ा लगा हुआ है। पटना स्थित लालू के घर पर सीबीआई के दो दर्जन से ज्यादा अधिकारी मौजूद है और जांच चल रही है। शुक्रवार सुबह साढ़े 7 बजे से सीबीआई ने लालू के घर पर छापेमारी शुरू की।
छापे के दौरान सीबीआई ने तेजस्वी यादव, सरला गुप्ता और पीके गोयल के निवास से लैपटॉप, आईपैड और मैल पर निविदा संबंधी दस्तावेजों को जब्त कर लिया। विनय कोचर और विजय कोचर से खाता विवरण और ई-मेल आईडी भी ली गईं। उनसे जिन कंपनियों में उन्होंने काम किया, वहां का विवरण भी प्रस्तुत करने के लिए कहा. बैंक खाते/लॉकर का भी विवरण लिया गया।
सीबीआई की छापेमारी पर प्रतिक्रिया देते हुए राजद के मनोज झा ने इसे भारतीय लोकतंत्र के लिए काला दिन करार दिया. उन्होंने कहा कि राजद इस तरह की हरकतों से नहीं झुकेगी। पार्टी इस मामले में कानूनी और राजनीतिक लड़ाई लड़ेगी।
सीबीआई ने लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी राबड़ी यादव, बेटे समेत कई अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया हैं। इसके अलावा जांच एजेंसी ने दिल्ली, पटना, रांची, पुरी और गुरुग्राम समेत 12 ठिकानों पर छापेमारी की है। लालू, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेज प्रताप के अलावा दो कपंनियों के डायरेक्टरों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। लालू पर आरोप है कि रेलमंत्री रहने के दौरान उन्होंने रांची और पुरी समेत अन्य रेलवे होटलों के विकास और मरम्मत का ठेका निजी कंपनियों को दिया था।

Share

Related posts

Share