Breaking News

वाराणसी: नगर की सड़को को दिसम्बर तक हर हालत में दुरूस्त कराये-डा0नीलकंठ तिवारी

nil
विजय श्रीवास्तव
-जोनल अधिकारी प्रत्येक दिवस दो-दो वार्डो का निरीक्षण कर सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करायें
-नगर आयुक्त भी करेेें प्रतिदिवस औचक निरीक्षण
वाराणसी। उत्तर प्रदेश के विधि, न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी ने आज शहर की सड़को को दिसम्बर तक ठीक करने का अल्टीमेटम अधिकारियों को दिया है। इसके साथ ही शहर की स्वच्छता पर विशेष जोर देते हुए नगर निगम द्वारा बगैर ड्रेनेज सिस्टम के बनवाये गये 83 मूत्रालयों पर पानी एवं सफाई की कोई व्यवस्था न होने की जानकारी पर अधिकारियों को आड़े हाथों लेते हुए मूत्रालय के औचित्य पर सवाल खड़ा किया। उन्होने कहॉ कि स्वच्छता के नाम बनाये गये मूत्रालय अस्वच्छता के प्रतीक बनते जा रहे है। उन्होने फिलहाल नगर निगम के सफाई कर्मियों की टीम बनाकर प्रतिदिवस सुबहध्शाम मूत्रालयों की सफाई कराये जाने का नगर आयुक्त को निर्देश दिया।
राज्य मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी बुधवार को नगर निगम सभागार में स्वच्छ भारत मिशन, हदय योजना आदि कार्यो के प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होने एग्लो बंगाली आदि स्थानों पर अतिक्रमण हटाकर सड़क चैड़ीकरण किये जाने के पश्चात् मौके पर सामुदायिक शौचालय बनाकर सड़क पर पुनः अतिक्रमण किये जाने को संज्ञान लेते हुए गहरी नाराजगी जतायी तथा ऐसे बनाये गये सामुदायिक शौचालयों की जॉच कर उचित स्थानों पर स्थानान्तरित किये जाने का निर्देश दिया। ताकि सड़को के चैड़ीकरण में शौचालय बाधक न बनने पाये और समुचित स्थान पर ही सामुदायिक शौचालय की उपलब्धता हो। मंत्री ने वार्डो को खूले में शौचमुक्त घोषित किये जाने पर सवाल उठाते हुए कहॉ कि इन क्षेत्रों में लोग खूले में शौच जा रहे है। उन्होने निर्देशित किया कि स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत 9702 व्यक्तिगत शौचालयों के सापेंक्ष निर्माणाधीन 1373 एवं शेष 1508 शौचालयों का निर्माण कार्य युद्वस्तर पर अभियान चलाकर पूरा कराये जाय। साथ ही अब तक बनाये गये 6821 व्यक्तिगत शौचालयों की सूची शहर के उत्तरी, कैण्ट एवं दक्षिणी के विधायक को उपलब्ध कराये जाने का निर्देश दिया। ताकि इनका भौतिक सत्यापन कराया जा सके। इस दौरान डाॅ नीलकंठ तिवारी ने शिवपुर के भरलाई स्थित सोनकर बस्ती में 50 परिवारो के पास शौचालय न होने तथा विधायक रविन्द्र जायसवाल द्वारा यहॉ पर शौचालय बनाये जाने हेतु लोगो की सूची तीन बार दिये जाने के बावजूद नगर निगम द्वारा अब तक कोई कार्यवाही न किये जाने को गम्भीरता से लेते हुए प्रकरण की जॉच कर स्वच्छता कार्यक्रम में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी की जिम्मेदारी तय कर कड़ी कार्यवाही किये जाने का निर्देश देते हुए, यहॉ पर शौचालय निर्माण शीघ्र कराये जाने का निर्देश दिया।
स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत नक्खीघाट के आजाद पार्क के पास बनाये गये 16 सीटर सामुदायिक शौचालय तथा जायका योजनान्तर्गत बनाये गये की सभी सामुदायिक शौचालयों की जॉच किये जाने हेतु नगर आयुक्त को निर्देशित किया। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहॉ कि 21 करोड़ 21 लाख 23 हजार की धनराशि भारत सरकार द्वारा अब तक स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत वाराणसी को दिया गया है। लेकिन धरातल पर वास्तव में अभी कार्य पूरी तरह दिखायी नही पड़ रहा है। उन्होने डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन के साथ ही कूड़ा घरो से कूड़े की उठान नियमित रूप से कराने तथा कूड़ा घर के पास कूड़े का अंबार सड़को पर कत्तई न होने देने की कड़ी हिदायत दी। उन्होने करसड़ा सॉलिड वेस्ट मेनेजमेंन्ट परियोजना को नगर निगम द्वारा संचालित किये जाने पर जोर दिया। नगर आयुक्त द्वारा बताया गया कि अनुबंध के अनुसार एनटीपीसी द्वारा 30 नवम्बर, 2017 तक संचालन किया जायेगा।
डा0 नीलकंठ तिवारी ने शहर के समस्त सड़को को पूरी तरह दुरूस्त किये जाने हेतु दिसम्बर, 2017 की समयसीमा निर्धारित करते हुए कहॉ कि इसके बाद अब कोई बहानेबाजी बर्दास्त नही किया जायेगा। उन्होने कहॉ कि आईपीडीएस द्वारा सितम्बर तक भूमिगत वायरिंग एवं ईएएसएसएल द्वारा हेरिटेज पोल लगाये जाने का कार्य पूर्ण कर लिया जायेगा, इसके बाद दिसम्बर, 2017 तक नगर निगम एवं लोनिवि अपने-अपने सड़को को हर हालत में दुरूस्त करा दे। हदय योजनान्तर्गत पितृकुण्ड एवं ईश्वरगंगी तालाब पर कराये जा रहे कार्य के दौरान समुचित सफाई न कराये जाने तथा सफाई के नाम पर खानापूर्ति किये जाने पर मंत्री डा0नीलकंठ तिवारी ने इसकी जॉच नगर आयुक्त को करने का निर्देश देते हुए संबंधित ठीकेदार के भुगतान पर रोक लगा दी।
बैठक नगर प्रमुख रामगोपाल मोहले, विधायक उत्तरी रविन्द्र जायसवाल, विधायक कैण्ट सौरभ श्रीवास्तव के अलावा नगर आयुक्त डा0नितिन बंसल सहित नगर निगम, जलसंस्थान, गंगा प्रदुषण नियंत्रण इकाई एवं जलनिगम के अधिकारियो के सहित अन्य विभागीय अधिकारी तथा मंत्री के प्रतिनिधि आलोक श्रीवास्तव प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Share

Related posts

Share