Breaking News

वाराणसी में शिक्षामित्रों का जोरदार धरना-प्रदर्शन

STUDENT
विजय श्रीवास्तव
-बीएसए कार्यालय पर जबरदस्त प्रदर्शन
-फांसी दो-फांसी दो के नारें लगा रहे थे शिक्षामित्र
-अध्याधेश लाने की मांग
वाराणसी। सुप्रीम कोर्ट के समायोजन रद्द करने के फैसले के बाद से बहाली को लेकर पूरे प्रदेश में शिक्षामित्र आंदोलित है। आंदोलन की आग अब मोदी के गढ़ वाराणसी को भी अब पूरे आगोश में लेना शुरू कर लिया है। आंदोलनरत शिक्षा मित्रों ने शुक्रवार को वाराणसी बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय पर जोरदार धरना दिया। उन्होंने राज्य सरकार से मांग की कि वह इस फैसले के खिलाफ जल्द से जल्द सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विंचार याचिका दाखिल करे।
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों के समायोजन को रदद् कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने केवल उन्हें ही राहत दी है कि जो टीटीई उर्तीण की है। वैसे कोर्ट ने दो वर्ष का समय भी दिया है लेकिन काफी संख्या में ऐसे शिक्षामित्र है जो या तो उनकी उम्र अधिक है या टीटीई के अहर्ता की शर्त पूरा नहीं कर पा रहे है। ऐसे लोंगो की संख्या भी काफी मात्रा में है। जिसकों लेकर ऐसे शिक्षामित्र का कहना है राज्य सरकार को समायोजित शिक्षकों और शिक्षामित्रों के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए उचित फैसला करे। बहाली के लिए शिक्षामित्र पिछले चार दिन से पूरे प्रदेश में धरना प्रदर्शन कर रहे हैं।
शिक्षामित्रों का कहना है कि जिस तरह से तमिलनाडु के पारंपरिक खेल जलीकट्टू के लिए अध्यादेश लाया गया उसी तरह से शिक्षामित्रों के मामले पर भी अध्यादेश लाया जाये। जिससे शिक्षामित्रों का भविष्य सुरक्षित हो सके। नेतृत्व कर रहे आदर्श समायोजित शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष अमरेंद्र दूबे ने कहा कि 1,72,000 शिक्षामित्रों का भविष्य बचाने के लिए सरकार अध्यादेश लाए। इस दौरान अच्छी खासी फोर्स की व्यवस्था की गयी थी। इस दौरान शिक्षा मित्र नौकरी दो या फांसी दो का नारें लगा रहे थे।  

Share

Related posts

Share