Breaking News

वाराणसी: सचल वार्ड फ्लू क्लीनिक से होगा अब हर वार्ड में अन्य रोंगो का इलाज

विजय श्रीवास्तव
-डीएम ने सचल वार्ड फ्लू क्लीनिक के वाहनों को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना
-द्वितीय चरण में ग्रामीण क्षेत्रों में भी सचल विलेज फ्लू क्लीनिक होगी संचालित-जिलाधिकारी
-प्रत्येक ब्लाक में होंगे 04 सचल विलेज फ्लू क्लीनिक संचालित

वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने आज मंगलवार को सचल वार्ड फ्लू क्लीनिक के वाहनों को हरी झण्डी दिखाकर मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय परिसर से रवाना किया। वाराणसी शहर में इस प्रकार के 45 सचल फ्लू क्लीनिक अपनी सेवाएं देगें जो पूर्व से निर्धारित वार्ड में सार्वजनिक स्थलों पर अपनी सेवाएं प्रदान करेंगे। इन सचल सचल क्लीनिक से ऐसे लोगों को इलाज हो सकेगा जो लाकॅडाउन की वजह से अस्पताल नहीं पहुंच पा रहे हैं। प्रत्येक सचल दल में 01 चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टाफ, औषधियॉ तथा चिकित्सकीय सामग्री भी होगी।
जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि लॉक डाउन में सर्दी, जुकाम, बुखार, सॉस लेने में तकलीफ जैसे सामान्य बीमारियों के मरीजों के अलावा हृदय रोग, टीबी, किडनी रोग, कैंसर रोग, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, अस्थमा एवं अन्य गम्भीर बीमारियां से पीडित मरीज जिनका पहले से उपचार चल रहा है और वो अस्पतालों तक नहीं पहुॅच पा रहे है उनकी सुविधा को दृष्टिगत रखते हुये उनके वार्डो में ही चिकित्सकीय सेवायें प्रदान करने के लिये सचल वार्ड फ्लू क्लीनिक की सेवा प्रारम्भ की गयी है। कोरोना संदिग्ध मरीजों की जॉच हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, शिवपुर, वाराणसी में सैम्पल कलेक्शन की व्यवस्था की गयी है।
जिलाधिकारी ने बताया कि द्वितीय चरण में ग्रामीण क्षेत्रों में भी सचल विलेज फ्लू क्लीनिक संचालित की जायेगी। प्रत्येक ब्लाक में 04 सचल विलेज फ्लू क्लीनिक, इस प्रकार 08 ब्लाकों में कुल 32 सचल विलेज फ्लू क्लीनिक संचालित किये जायेंगे, जिसमें चिकित्सक के अलावा पैरामेडिकल स्टाफ के साथ औषधियॉ तथा चिकित्सकीय सामग्री मौजूद रहेगी। उन्होने कहा कि क्षेत्र की आशा, ए0एन0एम0 एवं ऑगनवाड़ी मरीजों को घर से बाहर लाकर सेल्फ डिस्टेन्स की प्रक्रिया का पालन कराते हुये उन्हें चिकित्सकीय सेवाएं तथा संदिग्ध फ्लू के मरीजों को सहयोग प्रदान करेंगी। ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में प्रचार वाहनों से प्रचार कर इसके बारे में जनसमुदाय को जानकारी भी दी जायेगी। उन्होने क्षेत्रीय पार्षद, ग्राम प्रधान, नागरिक सुरक्षा के वार्डन, ग्राम पंचायत सदस्यों, क्षेत्रीय समाजसेवी एवं जनप्रतिनिधियों से अपील किया कि अपने क्षेत्र के मरीजों को चिकित्सकीय सेवा प्रदान कराने एवं कोरोना संदिग्ध मरीजों की जॉच कराने में आगे आयें। इस अवसर पर निजी पैथालाजी एसोशिएसन द्वारा जिलाधिकारी को आपदा राहत कोष में दान स्वरूप पचास हजार का चेक तथा जरूरतमन्दों को राहत हेतु खाद्य सामग्री सौपी गयी।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0वी0बी0सिंह, अपर एवं उप मुख्य चिकित्सा अधिकारीगण, जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी, सचल वाहनों में कार्य करने वाले चिकित्सक एवं पैरामेडिकल स्टाफ सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

Share

Related posts

Share