Breaking News

विश्व जल दिवस: जल संरक्षण करना हर आदमी की नैतिक जिम्मेदारी: विनोद प्रधान

vinod
-ममता संस्था के पियर मेन्टर के द्धारा चोलापुर में विश्व जल दिवस पर बच्चों ने लिया जल संरक्षण का संकल्प
वाराणसी। जल ही जीवन है। इस बात को हमारे बड़े बुजुर्ग के साथ-साथ हमारें पाठ्य पुस्तकों ने हमें समझाने की कोशिश की लेकिन इसके बावजूद आज भी हम इस बात को सच्चे अर्थो में आत्मसात नहीं कर सके हैं। जिसका नतीजा आज हमें देखने को मिल रहा है। आज पूरी धरती पर पीने योग्य पानी मात्र 2.8 प्रतिशत ही शेष रह गया है। यही कारण है कि आज जल संरक्षण पर बहुत जोर दिया जा रहा है। आज हमें यह समझने की कोशिश करनी होगी कि पानी का भंडार असमित नहीं है। इसलिए इसे बचाने व सरंक्षण के लिए हर आदमी को आगे आना होगा।
आज विश्व जल दिवस है।  जिसके माध्यम से समाज को यह समझाने की कोशिश की जा रही है कि वे जल के महत्व को अपने समझे और दूसरों को भी समझाए। इसी संदेश को लेकर आज ममता संस्था द्वारा विश्व जल संरक्षण दुवास के बारे में जानकारी दी गयी तथा पियर मेन्टर के द्वारा चोलापुर ब्लाक के गाँव में 10-19 वर्ष के किशोर किशोरियों को स्वच्छ जल का सेवन करने तथा साफ पानी पीने के क्या क्या फायदे हैं। इन सभी बातों के बारे में बताया गया तथा सबने यह शपथ ली की हमेशा स्वच्छ जल का सेवन करेंगे व् फिजूल पानी खर्च नही करेंगे। उक्त अवसर पर ममता संस्था के वरिष्ठ परियोजना प्रबंधक विनोद प्रधान ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन विश्व जल दिवस की पहल में की गई। 22 मार्च याने विश्व जल दिवस। पानी बचाने के संकल्प का दिन। पानी के महत्व को जानने का दिन और पानी के संरक्षण के विषय में समय रहते सचेत होने का दिन। आँकड़े बताते हैं कि विश्व के 1.5 अरब लोगों को पीने का शुद्ध पानी नही मिल रहा है। आज समय आ गया है कि समय रहते हम जल के प्रति अपने को सचेत हो जाए, कही ऐसा न हो कि हमे रोने के अलावा कोई चारा न बचे, तो आज 22 मार्च को हम लोग संकल्प करे कि किसी भी तरीके से जल की बचत करेगे और जल का अनावश्यक खर्च नही करेगे। इसलिए ऐसा कि आने वाली पीढ़ी को जल की किल्लत न हो। नही तो आने वाले पीढ़ी को तकलीफ के अलावा कुछ नही दे पायेगे।
इस कार्यक्रम का संचालन ममता संस्था के ब्लाक मेंटर्स राहुल , बी,एन, गिरी, शबनम, सौम्या द्वारा किया गया ।

Share

Related posts

Share