Breaking News

समर्पण व परिश्रम से ही लक्ष्य की प्राप्ति संभव: वी पी सिंह

aaaaaaaaddddd

विजय श्रीवास्तव
-मूलगंध कुटी विहार का चार दिवसीय कार्यक्रम समाप्त
-मेधावी छात्रों को किया गया पुरस्कृत
-स्कूली बच्चों ने किया सांस्कृतिक कार्यक्रम
-तीन पत्रिकाओं व पुस्तकों का हुआ विमोचन
वाराणसी। मूलगंध कुटी विहार के 87 वें वार्षिकोत्सव पर चार दिवसीय समारोह आज समाप्त हो गया। आज अन्तिम दिन महाबोधि सोसायटी आॅफ इण्डिया द्धारा संचालित महाबोधि विद्या परिषद के तीनों स्कूल के बच्चों द्धारा जहां सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया वहीं मेधावी छात्रों व खेलकूद में टाप करने वाले बच्चों को पुरस्कृत भी किया गया।

banerr 123

उक्त अवसर पर मुख्य अतिथि के पद से सम्बोधित करते हुए वाराणसी के डीआईओएस डाॅ वी पी सिंह ने कहा कि बुद्ध, राम, कृष्ण मनुष्य ही थे, लेकिन उनके कर्म, निस्वार्थ भाव ,परिश्रम व सोच ने उन्हें भगवान की श्रेणी में खडा कर दिया। तीनों विद्यालय के बच्चों को सम्बोधित करते हुए डाॅ सिहं ने कहा कि ऐसे लोंगो के जीवन से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। बिना समपर्ण व कठिन परिश्रम से लक्ष्य की प्राप्ति संभव नहीं है। बच्चों को पूजा भी कुछ मांगने की नियत से नहीं बल्कि अपने बुराइयों के समपर्ण के भाव से करनी चाहिए। हमें अपने जीवन का लक्ष्य बना कर चलना चाहिए तभी मंजिल मिलती है। आज कम्प्यूटर में, चैनलों में गलत चीजे दिखायी व फीड की जा रही है जिससे उनका आउटपुट भी खराब हो रहा है। हमें अपने को इनसे बचा कर चलने की जरूरत है। अच्छा बनने के लिए हमारें संस्कार अच्छे होने के साथ ही समपर्ण की भावना भी होनी चाहिए। इस दौरान महाबोधि सोसायटी आॅॅफ इडिया के पूर्व संयुक्त सचिव डाॅ के सिरी सुमधे थेरो ने कहा इस इन तीनों विद्यालय को स्थापित करने में काफी लोंगो ने काफी मेहनत किया जिसमें आज हजारों की संख्या में बच्चे पढ रहे है। इन बच्चों की जिम्मेदारी इस लिए और बढ जाती है िकवे भगवान बुद्ध के स्थली में पढ रहे है। उनमें अच्छे संस्कार व अच्छे व्यक्ति की अपेक्षा सभी को रहती है। इस दौरान उप शिक्षा निदेशक ओंकार शुक्ल सहित अन्य लोंगो ने भी सम्बोधित किया।

स्वागत महाबोधि विद्या परिषद के अध्यक्ष प्रो राम मोहन पाठक ने तथा संचालन महाबोधि इन्टर कालेज के प्राचार्य डाॅ बेनी माधव ने किया। उपस्थित समुदाय को पंचशील सोसायटी के संयुक्त सचिव डाॅ के मेघांकर थेरो ने दिया। इस दौरार जहां मेधावी बच्चों को जहां पुरस्कुत किया गया वहीं बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया।

 

Share

Related posts

Share