Breaking News

सरकार और शिक्षाधिकारी शिक्षकों को कोरोना के मुँह में झोंकने के लिए आमादा : रमेश सिंह

पंकज तिवारी
-रिटायर शिक्षक नेताओं के चलते शिक्षकों की समस्याओं में बेतहासा वृद्धि

वाराणसी। विधान परिषद चुनाव को लेकर अब सरगर्मी अब तेज होती जा रही है। इसी कम्र में आज उ प्र माध्यमिक शिक्षक अपने द्वितीय चरण के भ्रमण के क्रम मे माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रान्तीय उपाध्यक्ष एवं वाराणसी खंड शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार रमेश सिंह ने आज वाराणसी जनपद के विभिन्न विद्यालयों प्रेम बहादुर सिंह इन्टर कालेज खालिसपुर, नेशनल इन्टर कालेज पिन्डरा, कमला बालिका इन्टर कालेज बसनी, सुभद्रा कुमार इन्टर कालेज बसनी,बलदेव इन्टर कालेज बड़ागांव, बदरी इन्टर कालेज कनियर आदि का दौरा कर शिक्षक साथियों से सम्पर्क कर उनकी विभिन्न समस्याओं की जानकारी ली। इस दौरान उनसे विधान परिषद चुनावों मे समर्थन की अपील की।


इस दौरान शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जब से विभिन्न शिक्षक संगठनों की कमान रिटायर शिक्षक नेताओं ने सम्भाली है, तबसे न केवल हमारी उपलब्धियां छीनी गई हैं, बल्कि हमारी समस्याओं में बेतहासा वृद्धि हुई है, लेकिन ये नेता अपनी मौन सहमति देते हुए लगातार राजनीति कर रहे हैं। इस महामारी के दौरान भी ,जबकि केन्द्र सरकार का स्पष्ट निर्देश है कि 31 जुलाई तक शिक्षण संस्थान बन्द रहेंगे, माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों को उपस्थित रहने के लिए बाध्य किया जा रहा है। अभिभावक अपने बच्चों को प्रवेश के लिए भी विद्यालय भेजने से कतरा रहें हैं, लेकिन सरकार और शिक्षाधिकारी विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति अनिवार्य कर उन्हे कोरोना के मुँह में झोंकने के लिए आमादा हैं। रमेश सिंह ने सरकार और विभाग को चेतावनी दी है कि यदि केन्द्र सरकार के दिशा-निर्देशों का अक्षरशः पालन नहीं किया गया और शिक्षक कोरोना संक्रमित हुए तो निश्चित रूप से यह सरकार और विभाग पर भारी पड़ेगा।

Share

Related posts

Share