NIT (एनआईटी) में बढ़ेंगी B.Tech  और M.Tech की सीटें, छात्रों के लिए Good News

NIT (एनआईटी) में बढ़ेंगी B.Tech  और M.Tech की सीटें, छात्रों के लिए Good News

NIT में अच्छी खबर: बीटेक और एमटेक की सीटें बढ़ रही हैं

इंजीनियरिंग के लिए उच्च शिक्षा की बढ़ी मांग

यदि आप इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाने का सपना देख रहे हैं, तो एक अच्छी खबर है। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT – National Institute of Technology) में बीटेक (B.Tech – Bachelor of Technology) और एमटेक (M.Tech – Master of Technology) के कोर्सेज में सीटें बढ़ रही हैं। यह एक उत्कृष्ट अवसर है जो इंजीनियरिंग छात्रों के लिए मान्यता प्राप्त संस्थानों में अन्य वेबसाइटों की रैंकिंग को पीछे छोड़ने की क्षमता रखता है।

सीटें बढ़ेंगी: एमएनएनआईटी का एक बड़ा कदम

मोतीलाल नेहरू नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MNNIT – Motilal Nehru National Institute of Technology), इलाहाबाद, ने बताया है कि संस्थान में 14 फीसदी सीटें बढ़ने जा रही हैं। इसे 2020-21 शैक्षणिक सत्र से लागू किया जाएगा, जिससे आने वाले सत्र से ही छात्रों को इसका लाभ मिलेगा। यह वृद्धि छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है, खासकर उन विद्यार्थियों के लिए जो बीटेक या एमटेक करने की इच्छा रखते हैं।

सीटों की वृद्धि: बीटेक और एमटेक में

संस्थान के फैकल्टी इंचार्ज (प्रवेश), आशुतोष उपध्याय ने बताया है कि इस नई योजना के बाद सत्र 2020-21 में बीटेक कोर्स में विभिन्न श्रेणियों में विद्यार्थियों को कुल 1018 सीटों पर दाखिला मिलेगा। यह एक महत्वपूर्ण बदलाव है क्योंकि पिछले सत्र की तुलना में सीटें 901 थीं, जिससे बीटेक के लिए 117 सीटें बढ़ेंगी। इसके साथ ही, एमटेक कोर्स में भी इस योजना के तहत सीटों की वृद्धि होगी। नए सत्र में 595 विद्यार्थियों को दाखिला मिलेगा, जबकि पिछले सत्र में कुल 528 सीटें थीं।

सीटें बढ़ाने की योजना: सीनेट और सीट एलोकेशन

इस प्रस्ताव को आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए आरक्षण लागू करने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। हालांकि, इसे अभी अंतिम मंजूरी की जरूरत है। यह प्रस्ताव संस्थान के सीनेट के समक्ष पेश किया जाएगा और मंजूरी के बाद इसे केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय के अंतर्गत ज्वाइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (JoSAA) को भेजा जाएगा। इससे देशभर के सभी 23 आईआईटी, 31 एनआईटी, 25 आईआईआईटी समेत अन्य सरकारी सहायता प्राप्त संस्थानों के लिए सीट मैट्रिक्स तैयार किया जा सकेगा।

ईडब्ल्यूएस श्रेणी के तहत आरक्षण

कुछ अधिकारियों का मानना है कि इस योजना में ईडब्ल्यूएस श्रेणी के तहत 10 फीसदी आरक्षण लागू करने के लिए संस्थान को 25 फीसदी तक सीटों की वृद्धि करने की जरूरत है। इससे विभिन्न श्रेणियों के बीच नियमों के अनुसार सीटों का संतुलन बना रहेगा। पिछले सत्र में एमएनएनआईटी ने बीटेक की सीटों की संख्या में 11 फीसदी की वृद्धि की थी।

अगले सत्र की तैयारी

एमएनएनआईटी इलाहाबाद संस्थान के छात्रों के लिए यह एक बड़ी सुविधा है, क्योंकि इससे अधिक छात्रों को इंजीनियरिंग में अपनी प्राथमिकता के अनुसार चयन करने का मौका मिलेगा। यह नई योजना छात्रों को एक बेहतर और सामर्थ्यवान प्रशिक्षण परिषद्‌ की सुविधाएं प्रदान करेगी, जिससे उन्हें विशेषज्ञता के क्षेत्र में उच्चतर स्तर पर प्रवेश मिल सकेगा।

यह स्थापित करता है कि भारतीय शिक्षा प्रणाली में नई संशोधनों के बावजूद उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बदलाव हो रहा है। बच्चों को अब अधिक मौके मिलेंगे और वे अपनी प्राथमिकता और रुचि के अनुसार इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अधिक स्वतंत्रता से चयन कर सकेंगे। यह भारतीय युवाओं के लिए एक स्वर्णिम अवसर है और उन्हें तकनीकी शिक्षा में उच्च स्तर की पहचान प्राप्त करने का मौका देता है।

By Vijay Srivastava