Chandrayaan-3 : विक्रम लैंडर के द्वारा चंद्रमा की डरावनी व रहस्यमयी सतह का खुलासा, देखिए वीडियों

Chandrayaan-3 : विक्रम लैंडर के द्वारा चंद्रमा की डरावनी व रहस्यमयी सतह का खुलासा, देखिए वीडियों

Chandrayaan-3: विक्रम लैंडर के द्वारा चंद्रमा की रहस्यमयी सतह का खुलासा

विक्रम लैंडर चंद्रयान-3 के प्रोपल्शन मॉड्यूल से अलग होते ही उसने चंद्रमा की एक अद्वितीय फोटो क्लिक की और वीडियो बनाया। इस अद्वितीय वीडियो में, एक जगह पर हमारी पृथ्वी की भी झलक दिखाई देती है, जो कि चंद्रमा की सतह से दृश्यमान होती है। यह वीडियो और फोटोग्राफ्स चंद्रमा की सतह के अद्वितीय पृष्ठभूमि को अद्वितीयता से प्रकट करते हैं।

Vikram Lander ने 18 अगस्त 2023 को अपने ऑर्बिट को घटाकर एक नई यात्रा की शुरुआत

विक्रम लैंडर ने 18 अगस्त 2023 को अपने ऑर्बिट को घटाकर एक नई यात्रा की शुरुआत कर दी है। अब विक्रम लैंडर चंद्रमा से केवल 113 किलोमीटर की दूरी पर है। विक्रम लैंडर ने अपने क्यूरियस चश्मा का उपयोग करके चंद्रमा की सतह के फोटो व वीडियो को कैप्चर किया है। सबसे बडी बात यह है कि चन्द्रयान 3 ने भेजे वीडियो और फोटो में चन्द्रमा के सतह पर मिले उन गड्ढों को भी पहचाना है जिन्हें क्रेटर्स कहा जाता है। इसरो द्वारा बताया गया है कि वे गड्ढे चंद्रमा की सतह पर कहाँ-कहाँ पाए जाते हैं। इनमें से कुछ दृश्यों में आप चंद्रमा की सतह के अलग-अलग हिस्सों की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।

विक्रम लैंडर की नजर में : पृथ्वी का दृश्य

उपरोक्त छवि में, आप पृथ्वी को विक्रम लैंडर के दाहिने ऊपरी कोने में देख सकते हैं। यह दृश्य उनकी नई यात्रा के दौरान कैप्चर किया गया है और यह प्रकट करता है कि उन्होंने किसी नए दृश्य की तरफ यात्रा की है।

गड्ढों की पहचान: चंद्रमा की सतह के रहस्य

विक्रम लैंडर ने अपने उपग्रह से क्यूरियस चश्मा का उपयोग करके चंद्रमा की सतह की एक विशेष स्थानीयता को कैप्चर किया है। उन्होंने वीडियो और छवियों के माध्यम से उन गड्ढों को भी पहचाना है जिन्हें क्रेटर्स कहा जाता है। इसरो द्वारा बताया गया है कि वे गड्ढे चंद्रमा की सतह पर कहाँ-कहाँ पाए जाते हैं।

चंद्रमा के सुंदर दृश्य: एक अनूठी यात्रा

विक्रम लैंडर द्वारा कैप्चर किए गए यह फोटोग्राफ्स और वीडियो चंद्रमा की सतह के विभिन्न आकर्षक नजारों की पेशेवरी करते हैं। इनमें से कुछ दृश्यों में आप चंद्रमा की सतह के अलग-अलग हिस्सों की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।

अगला कदम: लैंडिंग की प्रतीक्षा

इसके अलावा, 20 अगस्त को आयोजित होने वाली दूसरी डीबूस्टिंग के तहत इसकी दूरी केवल 24 किलोमीटर उचाई रखने का लक्ष्य रखा गया है। निश्चय ही जब इतने करीब से विक्रम लैंडर तस्वीर व वीडियो साझा करेगा तब और भी कुछ नये खुलासे करेगा। जो निश्चय ही चन्द्रमा की सतह के बारें और बहुत कुछ बतायेगा। वैसे देश अब तेइस अगस्त की प्रतीक्षा कर रहा है, जब चन्द्रयान तीन वह चंद्रमा पर सफलतापूर्वक लैंड होगा।इन सभी अद्वितीय चित्रों और वीडियोग्राफ्स के बावजूद, विक्रम लैंडर अब 23 अगस्त की प्रतीक्षा कर रहा है, जब वह चंद्रमा पर सफलतापूर्वक लैंड होगा। इस सफलता की ओर एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाने के लिए सभी के मन में एक उत्सुकता है।

By Vijay Srivastava