गजकेसरी योग: जिसकी कुंडली में होता है ये शुभ योग, रंक को बना देता है राजा; जमकर बरसता है पैसा

गजकेसरी योग: जिसकी कुंडली में होता है ये शुभ योग, रंक को बना देता है राजा; जमकर बरसता है पैसा

Gajakesari योग कैलकुलेटर: हर जातक की कुंडली में कई तरह के योग होते हैं। इनमें से कुछ योग शुभ होते हैं और कुछ अशुभ माने जाते हैं। इन योगों के माध्यम से ही इंसान के जीवन की दिशा तय होती है।

गजकेसरी योग के लाभ: कुंडली में बने योग ही एक व्यक्ति को दूसरे व्यक्ति से अलग करते हैं। सभी योग काल पुरुष की कुंडली से बने होते हैं। गजकेसरी योग उन शुभ योगों में से एक माना जाता है। यह योग चंद्रमा और गुरु के संयोग से बनता है या फिर यदि चंद्रमा और गुरु एक साथ आ जाएं तो गजकेसरी योग का निर्माण होता है। जितने अच्छे भाव में चंद्रमा और गुरु होंगे, उतना ही व्यक्ति इस योग से लाभान्वित होगा। जब भी गजकेसरी योग बनता है, तब उन लोगों के लिए और भी महत्वपूर्ण हो जाता है, जिनकी कुंडली में पहले से ही यह योग मौजूद है, जिसके कारण व्यक्ति द्वारा किए गए प्रयासों में उन्हें सफलता मिलती है।

गजकेसरी योग कैसे बनता है:

गजकेसरी योग बनता है जब चंद्रमा के केंद्र में गुरु होता है। चंद्रमा के साथ अगर गुरु होता है या चंद्रमा जहां बैठे हो वहां से चौथे, सातवें या दसवें भाव में गुरु होता है, तो गजकेसरी योग का निर्माण होता है। गजकेसरी का अर्थ है कि राजा के समान हाथी पर सवार होता है। हाथी इंद्र का वाहन है और चंद्रमा काल पुरुष की कुंडली में सुख भाव का स्वामी है। वहीं, गुरु धर्म और मोक्ष भाव का स्वामी होता है। इस प्रकार, सुख और धर्म मिलकर अच्छे फल देते हैं। गजकेसरी योग को बनाने वाले ग्रह अगर मजबूत हैं और दोषयुक्त ग्रहों से दूर हैं, तो इससे निश्चित ही सकारात्मक परिणाम प्राप्त होता है।

गजकेसरी योग का प्रभाव:

गजकेसरी योग व्यक्ति की कुंडली में उच्च स्थान दिलाता है। यह स्थान आपको पैतृक, पिता से और खुद से भी प्राप्त हो सकता है। इसके साथ ही यह धन प्राप्ति के योग को प्रबल करता है और समाज में व्यक्ति के पद-प्रतिष्ठा और मान-सम्मान को बढ़ाने में मदद करता है। यह योग व्यक्ति को राजसी प्रवृत्ति देता है और पहले भाव में गुरु होने से व्यक्ति को गुरुतुल्य सम्मान मिलता है। गजकेसरी योग के कारण व्यक्ति में सुख, समृद्धि, बुद्धि, बल, विद्या, शौर्य, आयुष्य, धन, वाहन, राजसत्ता, सामरिक योग्यता, साहस और यश जैसी गुण सम्पन्न होती है।

गजकेसरी योग के लाभ:

गजकेसरी योग के अनेक लाभ हैं जो निम्नलिखित हैं:

  1. धन प्राप्ति: गजकेसरी योग धन की प्राप्ति के लिए प्रभावी होता है। इस योग के अस्तित्व में, व्यक्ति को आर्थिक स्थिति में सुधार मिलता है और धन संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
  2. सामाजिक मान-सम्मान: गजकेसरी योग व्यक्ति को समाज में उच्च मान्यता और सम्मान प्राप्त करने में मदद करता है। व्यक्ति को सामाजिक पद-प्रतिष्ठा की प्राप्ति होती है और उसे अधिकारियों और प्रशासकों की सराहना मिलती है।
  3. समृद्धि और व्यापार में सफलता: इस योग के प्रभाव से व्यक्ति को आर्थिक समृद्धि प्राप्त होती है और उसे व्यापार में सफलता मिलती है। उच्च सामरिक योग्यता के कारण, व्यक्ति को स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उच्च पद की प्राप्ति होती है।
  4. बुद्धि और विद्या का प्रभाव: गजकेसरी योग व्यक्ति को बुद्धि, ज्ञान और विद्या में समृद्ध करता है। व्यक्ति को अच्छी शिक्षा, विद्यालयी या विश्वविद्यालयी शिक्षा प्राप्त करने का अवसर मिलता है और उसे उच्चतर शिक्षा प्राप्त करने की क्षमता होती है।
  5. आयु और स्वास्थ्य: गजकेसरी योग व्यक्ति को लम्बी आयु और अच्छी स्वास्थ्य प्रदान करता है। इस योग के प्रभाव से व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक स्थिति में सुधार होता है और उसे लम्बी आयु का आनंद लेने का अवसर मिलता है।

यदि आपके किसी मित्र या परिवार के सदस्य की कुंडली में गजकेसरी योग है, तो यह उन्हें उपरोक्त लाभ प्रदान कर सकता है। हालांकि, कृपया ध्यान दें कि ज्योतिष एक विज्ञान नहीं है और भविष्यवाणियों की प्रमाणित गारंटी नहीं होती है। किसी भी ज्योतिषीय विवरण या योग के बारे में आपको विशेषज्ञ ज्योतिषी से परामर्श लेना संबंधित व्यक्ति के लिए सर्वोत्तम होगा।

By Vijay Srivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *