IIT BHU: को विश्व में मिली 78वीं रैंक, शोध की गुणवत्ता के लिए मिला सम्मान

IIT BHU: को विश्व में मिली 78वीं रैंक, शोध की गुणवत्ता के लिए मिला सम्मान

शिक्षकों के गुणवत्ता परक शोध पत्र पर आईआईटी बीएचयू को पहली बार क्वाक्वेरेली साइमंडस (क्यूएस) वर्ल्ड रैंकिंग में 78वां स्थान मिला है। इसे साइटेशन पर फैकल्टी (सीपीएफ) नाम दिया गया है। अब दुनिया में बीएचयू की व्यक्तिगत रैंकिंग 571 हो गई है। व्यक्तिगत रैंकिंग भी पहलीबार मिली है।

रैंकिंग का मूल्यांकन नौ अलग-अलग स्तरों पर होता है


रैंकिंग का मूल्यांकन नौ अलग-अलग स्तरों पर होता है। इसमें शैक्षणिक, नियोक्ता प्रतिष्ठा, प्रति संकाय साइटेशन, संकाय और छात्र अनुपात, अंतरराष्ट्रीय संकाय सदस्य से संबंधित मामले शामिल रहते हैं। संस्थान के अधिष्ठाता (अनुसंधान एवं विकास) प्रो. विकास कुमार दुबे ने बताया कि पिछले वर्ष आईआईटी बीएचयू को क्यूएस वर्ल्ड रैंकिंग में सूचीबद्ध कर 651-700 के बैंड में रखा गया था। जिस संस्थान की रैंकिंग 600 से अधिक होती है, उनकी व्यक्तिगत रैंकिंग नहीं जारी की जाती है। पहली बार संस्थान की व्यक्तिगत रैंकिंग 571 हुई है।

इस बार 37 रैंक का हुआ सुधार


क्यूएस के प्रमुख रैंकिंग मूल्यांकन मापदंडों में से एक सीपीएफ संस्थान का सबसे मजबूत रैंकिंग पैरामीटर है। प्रो. विकास ने बताया कि पिछले वर्ष 115वीं रैंक मिली थी। इस बार 37 रैंक का सुधार हुआ है। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों 78वीं रैंक मिली है। भारतीय संस्थानों में यह रैंकिंग 7वीं है, जो कि अब तक की श्रेष्ठ है। ्र

By Vijay Srivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *