Kashi Vishwanath Dham : अब काशी विश्वनाथ धाम में गर्मी से मिलेगी भक्तों को मिलेगी गर्मी से राहत, गंगा द्वार से मंदिर चौक तक लगेगा जर्मन हैंगर

वाराणसी। गर्मी के महिने में अब भक्तों को बाबा विश्वनाथ जी का दर्शन करने में परेशानी नहीं होगी। पहले जहां फर्श पर जलने पर पांव जलने लगता था वहीं सर पर धूप से भक्त परेशान होते थे लेकिन अब उन्हें इससे राहत मिलेगी। अब इसके लिए गंगा द्धार से मंदिर चौक तक भक्तों को गर्मी से राहत दिलाने के लिए जर्मन हैंगर लगेगा जिससे उन्हें अब राहत मिलेगी।
गर्मी और धूप के चलते को देखते हुए काशी विश्वनाथ धाम परिसर में जमीन पर लगे पत्थर गर्म हो जाते हैं। जिससे भक्तों को परेशानी होती थी। इसके दृष्टिगत मुख्य कार्यपालक अधिकारी विश्वभूषण मिश्र ने भक्तों गर्मी से राहत दिलाने के लिए जर्मन हैंगर लगाने का निर्णय लिया है। इससे भीषण गर्मी मई जून जुलाई के महिने में दूर दराज से आने वाले बाबा के भक्तों को काफी राहत मिलेगी। कतारबद्ध दर्शन के लिए खडे भक्तों को जहां गर्मी में उपर से सर पर सीधे धूप लगती थी वहीं धूप से फर्श गर्म होने से नंगे पाव होने से जलने लगते थे। अब जर्मन हैंगर के वजह से जहां इन दोंनो परेशानियों से उन्हें राहत मिलेगी। इसके साथ फर्श पर मैट भी जगायी जायेगी जिससे उन्हें कोई परेशानी न हो। सबसे खासियत की बात यह है कि जर्मन हैंगर लगाने का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू भी हो गया है।
इसके साथ ही गंगा के घाट से लेकर मंदिर चौक तक भक्तों के लिए पेय जल की व्यवस्था भी की जायेगी। इसके साथ ही गर्मी में कोई अप्रिय घटना न हो इसके लिए धाम में तीन स्थानों पर चिकित्सा शिविर लगाने का भी निर्णय लिया गया है। इसके लिए वाराणसी के सीएमओ को पत्र भी भेज दिया गया है।

By Vijay Srivastava