Margashirsha Amavasya 2022 : पितृदोष से परेशान है तो आज जरूर करें यह उपाय, आज है मार्गशीर्ष अमावस्या, यह काम कदापि न करें आज

Margashirsha Amavasya 2022 : 24TimesToday
Margashirsha Amavasya 2022 : 24TimesToday

ज्योतिष डेस्क
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कहा जाता है कि यदि किसी व्यक्ति के कुंडली में पितृदोष है तो उसे तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पडता है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार पितृदोष की वजह से व्यक्ति की नौकरी या व्यापार में वृद्धि न होना, वैवाहिक जीवन में बाधा, संतान संबंधित परेशानियां, घर में अशांति और स्वास्थ्य संबंधी जैसे तमाम समस्याओं का सामना से बराबर जूझना पड़ता है। मार्गशीर्ष अमावस्या 23 नवंबर सुबह 06 बजकर 53 मिनट से शुरू होगी और गुरुवार 24 नवंबर को सुबह 04 बजकर 26 मिनट पर इसका समापन होगा
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन अगर विधि विधान से यह उपाय किया जाए तो काफी हद तक पितृदोष से निजात मिल सकता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार आज के दिन पितरों के तर्पण की बात भी कही गयी है। आज यानि 23 नवंबर को मार्गशीर्ष माह की अमावस्या तिथि है। आज के दिन स्नान और दान-पुण्य का विशेष महत्व होता है। शास्त्रों में कहा जाता है कि इससे पितर प्रसन्न होते हैं और परिवार पर हमेशा उनका आशीर्वाद बना रहता है। अगर कहीं आप के कुंडली में पितृ दोष की स्थिति बनती है और आप बहुत परेशान हैं तो मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन कुछ विशेष उपाय के करने से आपका पितृदोष अवश्य दूर होगा और परिवार में खुशहाली आयेगी।


अमावस्या के दिन यह उपाय अवश्य करें-


1- अमावस्या के दिन पितृदोष से परेशान लोंगो को पवित्र नदी में स्नान करने के बाद पितरों को श्राद्ध कर्म करना चाहिए। इसके बाद ब्राह्मण को भोजन व दान करने से काफी हद तक पितृदोष से मुक्ति मिलती है।
2- किसी जरूरतमंद या गरीब व्यक्ति की बेटी का विवाह में अपनी सामर्थ्य के अनुसार मदद अवश्य करना चाहिए। इससे भी पितृदोष का प्रभाव कम होता है।
3-धार्मिक ग्रन्थों में कहा गया है कि अमावस्या के दिन दोपहर के समय पीपल के पेड़ पर जल में दूध मिलाकर अर्पित करना चाहिए। जल में दूध के साथ ही अक्षत, फूल व मिश्री मिलाना भी काफी लाभकारी माना गया है। उसके बाद चढ़े हुए जल को अपने हाथों से नेत्रों पर लगाना चाहिए उसके बाद फिर शाम के समय पीपल के पेड़ के समक्ष दीपक जलाएं।
4-धार्मिक ग्रन्थों में कहा गया है कि अमावस्या के दिन पितरों के नाम से फलदार, छायादार वृक्ष जैसे कि नीम, पीपल, आंवला, तुलसी का पौधा लगाने से भी पितरों की आत्मा को शान्ति मिलती है और उनका आशीर्वाद मिलता है।

See also  Bajrang Baan (बजरंग बाण) : अचूक बाण, पाठ करने से समस्याए होती है दूर, क्या है इससे फायदा और नियम, क्यों किया जाता है यह पाठ


मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन यह 5 काम न करें-


आज मार्गशीर्ष महीने की अमावस्या है। इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण और पिंडदान करने की परंपरा रही है। ग्रन्थों में कहा गया है कि अमावस्या की रात भूत-प्रेत, पितृ, पिशाच, और निशाचर जैसी नकारात्मक शक्तियां बहुत सक्रिय हो जाती है। इसलिए इस दिन सावधान के साथ यह 5 काम कभी नहीं करना चाहिए। अन्यथा इसके अशुभ परिणाम मिलते हैं।
1-श्मशान या सूनसान स्थानों से दूर रहें-
अमावस्या की रात भूत-प्रेत, पितृ, पिशाच, और निशाचर जैसी नकारात्मक शक्तियां बहुत सक्रिय हो जाती है ऐसे में अमावस्या की रात में भूलकर भी श्मशान या उसके पास से नहीं गुजरना चाहिए। इस रात को सुनसान सड़कों व सुनसान स्थानों से पर भी जाने से भी बचना की कोशिश करना चाहिए। ऐसा कहा गया है कि अमावस्या के दिन कमजोर दिल के लोगों पर नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव अधिक तेजी से पडता है।
2-शास्त्रों में कहा गया है कि मार्गशीर्ष अमावस्या पर तामसिक चीजों के सेवन से बिल्कुल परहेज करना चाहिए। इस दिन खाने में लहसुन, प्याज के साथ मांस, मछली, शराब आदि का प्रयोग भी कदापि नहीं करना चाहिए। इस दिन सात्विक भोजन करना चाहिए।
3-अमावस्या के दिन घर में अमन-शान्ति रखनी चाहिए। इस दिन घर में लड़ाई-झगड़ा करने से बचना चाहिए। शास्त्रों में कहा गया है कि अमावस्या के दिन जिस घर में लड़ाई-झगड़े होते हैं, वहां कभी पितरों का आशीर्वाद नहीं मिलता है और बराबर घर में लड़ाई-झगड़े होते रहते हैं। क्रोध व अपशब्द आदि का प्रयोग भी नहीं करें और घर में शान्ति का वातारण बनाना चाहिए। जिससे पितर प्रसन्न होते हैं।
4-कहा गया है कि अमावस्या के दिन देर तक नहीं सोना चाहिए। ऐसा करने वालों को पितरों का आशीर्वाद कृपा नहीं मिल पाता है। अमावस्या के दिन सूर्योदय के साथ जगकर सूर्य देव को जल अर्पित अवश्य करना चाहिए।
5-शास्त्रों में कहा गया है कि अमावस्या के दिन पति-पत्नी को शारीरिक संबंध नहीं करना चाहिए। कहा गया है चौदस, अमावस्या और प्रतिपदा तीन ऐसी तिथियां होती हैं जब हमें तन और मन दोनों से पूर्णतः पवित्र रहना चाहिए। इससे सुख-शान्ति मिलती है और पितर प्रसन्न होते हैं।
डिस्क्लेमर : इस लेख में दी गयी सभी जानकारियां सामाजिक और धार्मिक आस्थाओं शास्त्रों पर आधारित हैं। 24TimesToday इसकी किसी तरह पुष्टि नहीं करता है।

Share
Share