व्यापारी हत्याकांड : अवैध सम्बन्धों को लेकर हुई हत्या, पुलिस ने 14 घंटे में किया खुलासा, 4 अभियुक्त गिरफ्तार

विजय श्रीवास्तव
-पहाड़िया निवासी लॉन संचालक बृजेश पटेल की मंगलवार को हुई थी हत्या
-हत्या के आरोप में पुलिस ने पड़ोस से 4 चार लोंगो को किया गिरफ्तार

वाराणसी। पहाड़िया निवासी लॉन संचालक बृजेश कुमार पटेल उर्फ बबलू पटेल की जौनपुर में हुई निर्मम हत्या के आरोप में जौनपुर पुलिस ने चार अभियुक्तों को गिरफ्तार 14 घंटे में हत्याकाण्ड का पर्दाफास कर दिया। आरोप है कि लान संचालक के अपने ही नौकर के बहन के साथ अवैध सम्बन्ध था जिसको लेकर बबलू पटेल की हत्या नौकर के साथ उसके घर वालों ने मिलकर किया।


गौरतलब है कि रविवार की सुबह जौनपुर जनपद के केराकत कोतवाली अंतर्गत एक सिर कुंची लाश मिलने से सनसनी फैल गयी थी, जिसकी शिनाख्त मंगलवार को वाराणसी के पहाड़िया निवासी लॉन संचालक बृजेश के रूप में हुई थी। इस सूचना पर पहाड़िया के व्यापारियों में काफी आक्रोश था और हत्यारों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग को लेकर मंगलवार को व्यापारियों ने दुकान बंदी के साथ जबदस्त धरना प्रदर्शन किया। जौनपुर पुलिस ने 14 घंटे के अंदर इस हत्याकांड का पर्दाफाश करते हुए बृजेश के लॉन पर काम करने वाले कर्मचारी सहित 4 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार व्यापारी के अपने ही कर्मचारी की बहन से अवैध सम्बन्ध थे जिसके चलते बृजेश की जान चली गयी। गिरफ्तार चारों अभियुक्त वाराणसी के पहाड़िया व बबलू पटेल के पड़ोस में ही रहने वाले हैं जिन्हे जौनपुर के केराकत थाने की पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेज दिया।


इस सम्बन्ध में आईजी के सत्यनारायन ने बताया कि केराकत पुलिस व एसओजी की संयुक्त टीम द्वारा थाना स्थानीय पर पंजीकृत मुकदमा अपराध संख्या 99/22 धारा 302 आईपीसी बनाम अज्ञात का सफल अनावरण मुकदमा पंजीकृत होने के 14 घंटे में करते हुये घटना कारित करने वाले चार अभियुक्तों मनीष पाल निवासी रमरेपुर (पहड़िया) थाना लालपुर पाण्डेयपुर, दीपक चौहान उर्फ दीपू निवासी श्रीनगर कालोनी रमरेपुर (पहड़िया) थाना सारनाथ,नितिन पाल उर्फ संतोष पाल त्/व् देवलपुर (खुटहना) थाना चौबेपुर और सरोजा पाल पत्नी नितिन पाल उर्फ संतोष पाल निवासी देवलपुर (खुटहना) थाना चौबेपुर को हत्या में इस्तेमाल किये गए हथियार के साथ गिरफ्तार कर लिया है।
पुलिस के अनुसार पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि बृजेश पटेल जो कि बनारस के व्यापारी है उसका अपने ही नौकर मनीष पाल की बहन के साथ अवैध सम्बन्ध बन गया जिससे उसका भाई मनीष को अपने मालिक के इस अवैध सम्बन्ध से काफी नाराज था। 20 मार्च की रात बृजेश शराब के नशे में पुनः मनीष की बहन के ससुराल पहुँच गया तो बहन सरोजा ने तत्काल अपने भाई को बुला लिया। वहीं हुई हाथापाई में मनीष ने रॉड से मार कर बृजेश की हत्या कर दी और गाड़ी में शव को डाल कर थानागद्दी के खेत मे फेक दिया। मनीष का गुस्सा इस कदर था कि खेत मे भी शव को ईंटो से कूच दिया व मृतक के कपड़ो को आग लगा दी । शव फेकने के बाद मनीष मृतक की गाड़ी लेकर सन्दहा चौबेपुर जाकर मृतक की गाड़ी को भी आग के हवाले कर दिया था।

See also  Breaking News : स्कूल में प्रार्थना के समय 23 वर्षीय टीचर की हार्ट अटैक से मौत


आईजी के सत्यनारायण द्वारा 14 घंटे के अंदर अपने नेतृत्व में हत्यारों को सर्विलांस की सहायता से पकड़कर नया इतिहास रचा है। ऐसे में एडीजी जोन राम कुमार ने जौनपुर पुलिस टीम और स्वॉट टीम को प्रशस्ति पत्र और 20 हज़ार रुपये के नगद पुरस्कार की घोषणा की है।
उक्त गिरफ्तारी में प्रभारी निरीक्षक केराकत लक्ष्मण पर्वत, सब इंस्पेक्टर संतोष कुमार, सब इन्स्पेक्टर आदेश कुमार त्यागी( प्रभारी स्वाट टीम जौनपुर), सब इन्स्पेक्टर रामजनम यादव ( प्रभारी सर्विलांस), हेडकांस्टेबल जयचंद सिंह, हेडकांस्टेबल संतोष गिरी, हेडकांस्टेबल रमेश यादव, हेडकांस्टेबल लल्लन सिंह थाना केराकत और हेडकांस्टेबल संदीप कुमार, हेडकांस्टेबल विक्रम सिंह रघुवंशी, हेडकांस्टेबल अजय कुमार, कांस्टेबल भानु प्रताप सिंह, कांस्टेबल बसंत यादव (सर्विलांस टीम) कांस्टेबल अलोक कुमार और कांस्टेबल अमित कुमार सिंह सर्विलांस टीम ने मुख्य भूमिका निभाई।

Share
Share