Oh My God : RBI ने अब बंद कर दिया इस सिक्के को, कारण जानकर हो जायेंगे हैरान

Oh My God : RBI ने अब बंद कर दिया इस सिक्के को, कारण जानकर हो जायेंगे हैरान

Oh My God : पिछले कुछ समय में आपने इस बात पर जरूर गौर किया होगा कि 5 रुपये के पुराने मोटे सिक्के आने बंद हो गए हैं. आसान शब्दों में कहें तो पुराने 5 रुपये के सिक्के पिछले कई सालों से बनने बंद हो गए हैं. इस नई विकसित कथा में, हम आपको बताएंगे कि इस फैसले के पीछे छिपी वजह क्या है और कैसे यह भारतीय मुद्रा और अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर सकता है।

सिक्कों का महत्व और परिवर्तन

Indian Rupees Coin Facts: भारतीय करेंसी में नोट और सिक्के चलते हैं. आपने देखा होगा कि 5 का सिक्का कई तरह का होता है. एक पुराने वाला मोटा सिक्का होता है और एक इसके बाद आया सुनहरे रंग का पतला सिक्का.

भारतीय मुद्रा प्रणाली में सिक्के महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। पिछले कुछ समय में, आपने देखा होगा कि 5 रुपये के पुराने मोटे सिक्के आने बंद हो गए हैं। जब हम इस परिवर्तन की ओर देखते हैं, तो हमें सिक्कों के निर्माण में होने वाले परिवर्तन का पता चलता है।

सिक्कों के निर्माण में परिवर्तन

सिक्कों से बनाते थे ब्लेड

पुराने 5 रुपये के सिक्के काफी मोटे होते थे, लिहाजा इन सिक्कों को बनाने में भी ज्यादा मेटल लगती थी। इस तरह की सिक्के को पिघलाने पर उनसे ब्लेड्स बनाए जाने लगे।

बांग्लादेश में होने लगा सिक्कों का व्यापार

एक सिक्के से बनते थे इतने ब्लेड

पुराने सिक्कों के ज्यादा मेटल होने के कारण उन्हें बांग्लादेश में गलत तरीकों से स्मगल किया जाने लगा। वहां इन सिक्कों को पिघलाकर उनसे ब्लेड्स बनाए जाने लगे, जिससे उनका बिजनेस फ्लोरिश हुआ।

भारतीय रिजर्व बैंक का कदम

बात पकड़ में आते ही उठाया गया ये कदम

जब मार्केट में सिक्के की कमी आई और इसकी चिंता सरकार को हुई, तो भारतीय रिजर्व बैंक ने त्वरित कदम उठाया। उन्होंने 5 रुपये के सिक्कों को पतला कर दिया और इसके बाद उनसे ब्लेड्स बनाने वाले मेटल को बदल दिया, जिससे बांग्लादेश में सिक्कों से ब्लेड्स का व्यापार रुक सके।

नए सिक्के और भारतीय अर्थव्यवस्था

यह फैसला भारतीय मुद्रा और अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण है। नए सिक्के बनाने के प्रक्रिया में ज्यादा मेटल का उपयोग नहीं होगा, जिससे उनका निर्माण कम खर्चीला होगा। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था को भी फायदा होगा और नए सिक्के व्यापार में नये दृष्टिकोण को प्राप्त हो सकता है।

इस नए फैसले से भारतीय मुद्रा में परिवर्तन आया है, जिसका मुख्य उद्देश्य सिक्कों से बनने वाले ब्लेड्स के व्यापार को रोकना और भारतीय अर्थव्यवस्था को स्थिरता देना है। यह कदम समझदारी से उठाया गया है ताकि हमारी मुद्रा और अर्थव्यवस्था को नए संभावनाओं का सामना करना पड़े।

By Vijay Srivastava