Breaking News

48,000 करोड़ रूपये के घोटाले में पीएसीएल (पर्ल) के खिलाफ ईडी ने फाइल की चार्जशीट

parl

 

बिजनेस डेस्क

 -प्रवर्तन निदेशालय ने 2015 में प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की थी शुरू
 -कई एजेंसियों कर रही है पीएसीएल की जांच 
 -कोर्ट ने 26 सितंबर तक इस मामले को किया विचाराधीन 
 नई दिल्ली। 48,000 करोड़ घोटाले में फॅसी पीएसीएल पर कानूनी शिकंजा कसता जा रहा है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पीएसीएल लिमिटेड के निदेशक निर्मल सिंह भंगू और अन्य के खिलाफ पीएसीएल पोंजी घोटाले के मामले में मनी लॉंडरिंग जांच में चार्जशीट दायर कर दी है। भांगू के अलावा, उनके तीन सहयोगियों और उनके कई कमीशन एजेंटों को भी एक विशेष अदालत में मनी लॉंडरिंग अधिनियम (पीएमएलए) के तहत दायर ईडी के आरोप पत्र में नामित किया गया है।

RISHABH BANER 1

गौरतलब है कि पीएसीएल ने देश भर में हजारों निवेशकों से कृषि भूमि के विकास और विकास के सामूहिक निवेश योजना के माध्यम से 48,000 करोड़ रुपये से ज्यादा धन इकट्ठा किया था। केंद्रीय जांच ब्यूरो के इस मामले में 2015 में प्राथमिकी दर्ज करने के बाद जांच शुरू करने के बाद ईडी ने जनवरी में 472 करोड़ रुपये के पर्ल समूह और भंगू की ऑस्ट्रेलिया स्थित संपत्तियों को संलग्न किया था। ईडी ने कहा कि पीएसीएल और पीजीएफएल के प्रमोटरों और निदेशकों ने कृषि भूमि की बिक्री और विकास के क्षेत्र में एक सामूहिक निवेश योजना के माध्यम से पूरे देश में निवेशकों से पोंजी स्कीम के तहत 48,000 करोड़ रुपये से अधिक धन एकत्र किए। जबकि इसके बदले उन्हें केवल धोखा मिला। यह कहा गया है कि मनी लॉंडरिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत प्रावधान से जुड़ी संपत्तियां ऑस्ट्रेलिया में हैं जिनकी लागत लगभग रु 472 करोड़ हेैं।

RISHABH POSTER
सीबीआई ने 2016 में भांगू और उनके तीन सहयोगियों पर आरोप लगाया था कि उन्होंने रियल एस्टेट परियोजनाओं के नाम पर पोंजी योजनाओं के माध्यम से दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और अन्य राज्यों में निवेशकों से धन इकट्ठा किया था। भांगू व उनकी कंपनियों पीएसीएल और पीजीएफएल के साथ-साथ लाखों कमीशन एजेंटों पर कृषि भूमि की बिक्री और विकास के पूर्व में 5.5 करोड़ निवेशकों को धोखा देने का भी आरोप था। कंपनियों ने निवेशकों को जमीन के झूठे आवंटन किए, जबकि उनके पास अपने नाम पर कोई जमीन न हो। इस दौरान भंगू और उनकी कंपनियों ने निवेशकों से वादा किया कि 90 और 270 दिनों के बीच उनके निवेश पर आवंटन किया जाएगा और यदि नहीं, तो सुन्दर रिटर्न का भुगतान किया जाएगा।

 

 

 

 

Share

Related posts

Share