खाते में राशि नहीं होने पर भी UPI से भुगतान होगा

नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI ) ने यूपीआई से लेनदेन के लिए क्रेडिट लाइन सेवा शुरू कर दी है।

इसके तहत यूपीआई से भुगतान व्यवस्था को बैंकों की तरफ से जारी पहले से मंजूर कर्ज ( प्री-अप्रूव्ड लोन ) सेवा से जोड़ दिया जाएगा।  इससे बैंक ग्राहक खाते में पैसा नहीं होने पर भी भुगतान कर सकेंगे।

आरबीआई से मंजूरी मिलने के बाद जल्द ही यह सुविधा अधिकांश सरकारी और निजी बैंकों से शुरू कर दी जाएगी। 

क्या है क्रेडिट लाइन सेवा

यह एक तरह का ऋण होगा, जो बैंकों की ओर से अपने ग्राहकों की लिए पहले से मंजूर होगा। इसमें क्रेडिट कार्ड की तरह ही ग्राहकों को खर्च करने के लिए एक निश्चित रकम निर्धारित की जाएगी। कुछ बैंकों में यह राशि 50 हजार रूपये तक हो सकती है।  इस रकम का इस्तेमाल ग्राहक जरुरत पड़ने पर यूपीआई से भुगतान के रूप में कर सकेंगे।  इस सेवा में जितनी राशि खर्च की जाएगी उतने पर ही ब्याज़ बैंकों द्वारा लिया जाएगा। लेकिन इससे नगद राशि नहीं निकला जा सकता है। 

UPI ऐप को ऐसे लिंक करें

अपने मोबाइल में UPI ऐप खोलें। इसके बाद नए पे-लेटर खाते का विकल्प चुनें।
अब जिस बैंक में क्रेडिट लाइन सेवा हुई है , उसका चयन करें। फिर UPI पिन का चयन करे , इसके बाद भुगतान कर सकेंगे।
ग्राहकों को ऐसे होगा फायदा
ग्रहकों को अलग – अलग कार्ड नहीं रखना पड़ेगा। मोबाइल से ही upi के जरिए भुगतान कर सकेंगे।
क्रेडिट कार्ड बनने में समय लगता है , क्रेडिट लाइन को तुरंत मंजूरी मिलेगी।

आवेदन की प्रक्रिया

1 🙂 क्रेडिट लाइन सुविधा का लाभ उठाने के लिए ग्राहक को बैंक के पास आवेदन देना होगा।
2 🙂 बैंक क्रेडिट हिस्ट्री को देखते हुए कर्ज की सीमा तय करेंगे। हर व्यक्ति के लिए ये सीमा अलग – अलग हो सकती है।
3 🙂 ग्राहक द्वारा खर्च की गई राशि पर ही बैंक ब्याज वसूल कर सकेंगे , पूरी राशि पर ब्याज नहीं लगेला।
4 🙂 इस सेवा के लिए संबंधित बैंक में खाता होना जरुरी है , बैंक प्रोसेसिंग शुल्क ले सकते है।
5 🙂 अगर किसी महीने राशि खर्च नहीं होती है तो उस पर ब्याज नहीं वसूला जायेगा।

By Aryan Singh