सितम्बर माह में मिलेंगे तीन बार राशन

मनीष कुमार
-दो बार केन्द्र के कोटा से एक बार प्रदेश सरकार के कोटे से

वाराणसी। अगर आप राशन कार्ड धारक है तो आपके लिए यह लेख आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने जा रहा है। केन्द्र सरकार के तरफ से राशन कार्ड को लेकर एक बहुत बडा ऐलान किया गया है। जिसके तहत सितम्बर माह में राशन कार्ड धारकों को तीन बार राशन आपको मिलने जा रहा है। जिसके लिए सरकार ने जहां राशन देने का एलान कर दिया है वहीं इसके साथ कुछ दिशा निर्देश भी लागू कर दिया गया है। इसके तहत दो बार जहां केन्द्र सरकार के कोटे से निःशुल्क राशन वहीं एक बार प्रदेश सरकार की तरफ से सस्ते दर पर राशन उपलब्ध कराया जायेगा।

अगस्त माह में पैसा देकर खरीदना पडा था राशन

जैसा कि आप जानते है कि पहले दो बार माह में राशन मिलता था एक केन्द्र सरकार की तरफ से और दूसरा प्रदेश सरकार की तरफ से तो अब जहां अधिकतर प्रदेश सरकारें फ्री राशन स्कीम बंद कर रही हैं। यूपी सरकार के साथ अन्य कुछ प्रदेशों में अब सस्ते दर पर राशन उपलब्ध कराया जा रहा है लेकिन इसी बीच सरकार ने सितम्बर माह में तीन बार राशन देने का एलान करने का फैसला लिया है। हम आपको बताते चले कि अगस्त माह में लाभार्थियों को पैसा देकर राशन खरीदना पडा था वहीं अब जब कि केन्द्र सरकार ने राशन देने का निर्णय किया है जिसके तहत सितम्बर माह में तीन बार राशन देने का एलान किया है।

See also  UP News : निकाय चुनाव में सपा सिंबल पर लड़ेगी चुनाव, मैदान में दमखम से प्रत्याशी

केन्द्र सरकार ने 16 मिटिक टन अनाज फ्री राशन स्कीम के लिए किया आवांटित

इसके लिए केन्द्र सरकार ने 16 मिटिक टन अनाज फ्री राशन स्कीम के लिए आवांटित भी कर दिया है। इस वितरण में अनाज के साथ आपको कुछ अन्य समाग्री मिलने वाली है। वहीं कुछ बडे लाभ भी मिलने वाले हैं। इसके साथ ही आपको जानकारी दे दें कि केन्द्र सरकार द्धारा जहां प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में निःशुल्क राशन वितरण हो रहा है। जबकि वहीं प्रदेश सरकार की तरफ से सस्ते दर में राशन उपलब्ध कराया जा रहा है।

खाद्य आयुक्त ने सभी राशन की दुकानों को लिखित आदेश किया जारी

इसके लिए खाद्य आयुक्त ने सभी राशन की दुकानों को लिखित आदेश जारी किया है कि वे अपने यहां पारदर्शिता अपनाते हुए एक बोर्ड लगाए जिसपर सभी केन्द्र व प्रदेश सरकार के दिशा निर्देशों व योजना के बारें में स्पष्ट रूप से लिखें। इस बोर्ड में यह भी स्पष्ट रूप से लिखा जायेगा कि किस योजना के तहत उन्हें कितना राशन मिल रहा है। बोर्ड में इस बात का भी उल्लेख करना होगा कि किस योजना के तहत कितना फ्री में राशन मिल रहा है और किस योजना के तहत कितना राशन के लिए उन्हें पैसा देना होगा। इसका पूरा विस्तृत उल्लेख उन्हें बोर्ड में करना होगा। इसकी गहनता से जांच की जायेगी। जिससे किसी तरह के भ्रष्टाचार की गुंजाइश न हो। इसके साथ ही उठान व वितरण के लिए अधिकारियों की डयूटी लगायी जा रही है जिससे इसमें कोई गडबडी की गुंजाइश न हों। इसमें किसी तरह से अगर गडबडी पायी गयी तो राशन दुकान के साथ ही सम्बन्धित अधिकारी के खिलाफ कडी कार्रवाई की जायेगी।

Share
Share