सीधी पेशाब कांड : सियासत गर्म, दशमत रावत के सीएम ने धोए पैर, हाथ से खिलाया खाना, बोले- तुम मेरे दोस्त हों

सीधी पेशाब कांड : सियासत गर्म, दशमत रावत के सीएम ने धोए पैर, हाथ से खिलाया खाना, बोले- तुम मेरे दोस्त हों

राजनीति में और वोट बैंक के लिए क्या करना पडता है और वह भी अगर चुनाव करीब हो तो फिर क्या कहना है। यह मध्यप्रदेश में इन दिनों सीधी में दशमत रावत पेशाब कांड के बाद साफ दिखाई दे रहा है। सीएम शिवराज पीडित आदिवासी युवक का बकायदा पैर धोकर उसके पानी को सर से लगाते है और साथ ही उसे अपने हाथों से खाना खिलाते हुए साल से सम्मानित करते हैं। इसके साथ उसे सरकारी सहायता का भी एलान करते है।


दशमत रावत के साथ हुए अन्यायपूर्ण घटना के बाद राजनीति में हलचल


सीधी जिले में एक भाजपा कार्यकर्ता द्वारा दशमत रावत पर बेशर्मी से पेशाब करने की घटना के बाद से राजनीति में गर्माहट बढ़ी हुई है। पीड़ित दशमत रावत ने गुरुवार को भोपाल में मुख्यमंत्री निवास पहुंचे, जहां उन्हें सीएम शिवराज सिंह चौहान ने धोए पैर कर और शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया। सीएम ने दशमत को सुदामा कहकर बताया कि वे अब उनके दोस्त हैं।


वीडियो वायरल होने के बाद सियासी पारा चढ़ा


यह मामला सीधी में भाजपा नेता प्रवेश शुक्ला द्वारा दशमत रावत पर पेशाब करने का वीडियो वायरल होने के बाद सियासी विवाद में बदल गया। इस घटना के बाद भाजपा और कांग्रेस ने जांच कमेटियां बनाई हैं और मामले की जांच की गई है। दस दिन पहले ही वीडियो वायरल हो चुका है, जिसमें दसमत रावत पर पेशाब करते हुए प्रवेश शुक्ला का वीडियो दिखाया जा रहा है। इसके बाद से प्रदेश में बड़ी उग्रता आई है और इस मामले की गंभीरता को देखते हुए न्यायिक और कानूनी कार्रवाई की गई है।


सीएम शिवराज की माफी और सम्मान


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दशमत रावत से मिलकर उनसे माफी मांगी और उन्हें सम्मानित किया। सीएम ने कहा कि उनका मन दुखी है और उनके लिए जनता ही भगवान है। वे पीड़ित से बात करते हुए पूछे कि क्या उनके बच्चे पढ़ रहे हैं, छात्रवृत्ति मिल रही है और क्या उन्हें किसी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा सीएम ने पत्नी के लिए लाडली बहना की व्यवस्था, आवास योजना के लाभ और बेटी की पढ़ाई का विशेष महत्व बताया। सीएम ने दशमत को सुदामा कहकर कहा कि वे अब उनके दोस्त हैं।


भाजपा कार्यकर्ता की गिरफ्तारी


इस घटना के बाद पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ता प्रवेश शुक्ला को गिरफ्तार किया है। उन्हें मंगलवार रात को दो बजे गिरफ्तार किया गया था और उन्हें रीवा जेल में रखा जाएगा। प्रशासन ने उनके घर पर बुलडोजर चला कर तोड़ दिया है। यह वीडियो वीडियो करीब दस दिन पहले वायरल हो गया है, जिसमें सीधी जिले के कुबरी बाजार में बैठे हुए एक युवक पर प्रवेश शुक्ला द्वारा पेशाब किया गया है। इस वीडियो को किसी ने बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया है। कांग्रेस ने इस घटना पर तीखी प्रतिक्रिया दी है और ग्राम कुबरी में रहने वाले प्रवेश शुक्ला को बीजेपी कार्यकर्ता कहकर लिया गया है। प्रवेश शुक्ला पहले विधायक प्रतिनिधि थे और वर्तमान में वे सक्रिय बीजेपी कार्यकर्ता हैं।


सीएम के भगवान और जनता पर विचार


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दशमत रावत से मिलकर उनसे माफी मांगी और उन्हें सम्मानित किया। वे कहते हैं कि उनके मन में गहरी वेदना है और उन्हें दरिद्र और जनता ही भगवान मानते हैं। जनता की सेवा उनके लिए भगवान की पूजा है। वे यह मानते हैं कि हर इंसान में ही भगवान का निवास होता है और गरीब ही हमारे लिए पूज्य होते हैं। गरीब का अपमान हम सबका अपमान है।
इस घटना के बाद दशमत को सीएम ने सुदामा कहकर कहा कि वे अब उनके दोस्त हैं। यह मामला सीधी में गर्म चर्चा का विषय बन गया है और इससे सीधी में बड़ी हलचल मची हुई है। इस घटना ने सामाजिक और राजनीतिक मंचों पर भी गहरा प्रभाव डाला है। कानूनी कार्रवाई के बाद प्रवेश शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसका घर भी तोड़ दिया गया है। इस घटना ने सीधी जनता की राय को भी प्रभावित किया है और यह दर्शाता है कि अज्ञानता और न्याय के खिलाफ हुई किसी भी अत्याचारपूर्ण कार्यवाही को जनता बर्दाश्त नहीं करती है।

By Vijay Srivastava