UP Election : CM योगी के खिलाफ चंद्रशेखर ने ठोकी ताल, मुलायम के साढु BJP में, मैनपुरी से लड़ सकते हैं अखिलेश चुनाव

विजय श्रीवास्तव
-भाजपा : नहीं मिलेगा सांसद, मंत्री के बेटे-बेटी को टिकट

वाराणसी। जैसे-जैसे यूपी में चुनाव करीब आते जा रहे हें, वैसे-वैसे राजनीतिक गलियारों में गर्माहट देखने को मिल रही है। आज के दिन यूपी में कई गर्मागर्म खबरें छन कर कर आयी। जो चौकाने वाली रहीं। जिसमें सपा में पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के साढु के भाजपा में शामिल होने की जोरदार चर्चा रहीं वहीं भाजपा द्धारा सांसद, मंत्रियों के बेटे-बेटियों को टिकट न देने की चर्चा से पार्टी के अन्दर हलचल तेज हो गयी है। वहीं आज भीम पार्टी के चन्द्रशेखर ने सीएम योगी के खिलाफ चुनाव लडने का एलान कर जहां सबको चौंका दिया वहीं सपा मुखिया अखिलेश यादव ने मैनपुरी से चुनाव लडने का एलान किया है। इसके साथ भाजपा के कईयों वर्तमान विधायक, मंत्रियों के टिकट कटने की चर्चा से भाजपा में हलचल तेज है।


CM योगी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे चंद्रशेखर


भीम पार्टी के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद ने प्रेस कांफ्रेंस करके एलान किया कि वे यूपी में अकेले दम पर चुनाव लड़ेंगे। कहा कि हम परिवर्तन की लड़ाई लड़ रहे हैं। आजाद समाज पार्टी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद गोरखपुर शहर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने आज गुरुवार को इसकी घोषणा की है। जैसा कि आप जानते है कि गोरखपुर शहर से इस बार सीएम योगी आदित्यनाथ मैदान में हैं। ऐसे में वर्तमान विधायक डॉ राधा मोहन दास अग्रवाल का टिकट कट गया है। चंद्रशेखर आजाद ने प्रेस कांफ्रेंस करके एलान किया कि वे यूपी में अकेले दम पर चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि हम परिवर्तन की लड़ाई लड़ रहे हैं।


मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव


समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते है। पहले यह कयास लगाये जा रहे थे कि वे आजमगढ़ से चुनाव लड़ेंगे। बता दें कि पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव का इस सीट से करीबी जुड़ाव रहा है। मुलायम सिंह यादव ने करहल के जैन इंटर कॉलेज से ही शिक्षा ग्रहण की थी और वे यहां पर शिक्षक भी रहे। करहल मुलायम सिंह यादव के गांव सैफई से महज चार किलोमीटर की दूरी पर है और सबसे खास बात यह है कि करहल विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी (सपा) का सात बार कब्जा रहा है।


मुलायम सिंह यादव के साढ़ू प्रमोद भाजपा में


यूपी चुनाव में अभी भी अपने राजनीतिक भविष्य को तलाशने नेताओं का इधर-उधर आना जाना लगा है। अभी जहां मुलायम सिंह यादव की छोटी बहु अर्पणा यादव को भाजपा ने ज्वाइन कर सपा परिवार में सेंधमारी की थी वहीं आज मुलायम सिंह यादव के साढ़ू प्रमोद गुप्ता भाजपा में शामिल हो गये। वो समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता हासिल करने के बाद प्रमोद गुप्ता ने पत्रकारों से बात की और अखिलेश यादव पर हमले किये। बीजेपी जॉइन करने के सवाल पर गुप्ता ने कहा कि वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों से प्रभावित हैं इसलिए उन्होंने ये फैसला लिया। उन्होंने कहा की मुलायम सिंह ने परिवार को साथ रखा लेकिन अखिलेश ऐसा नहीं कर सके।


भाजपा सांसदों, मंत्रियों और विधायकों के बेटे-बेटियों को नहीं देगी टिकट


भाजपा की नई नीति से परिवारवाद को जोरदार झटका लगने वाला है। भाजपा की नई नीति से सांसदों, मंत्रियों, विधायकों और वरिष्ठ नेताओं की परेशानी बढ़ेगी। पार्टी का शीर्ष नेतृत्व नेताओं की नई पीढ़ी को राजनीतिक विरासत देने के पक्ष में नहीं है। पार्टी ने तय किया है कि किसी भी ऐसे मंत्री, सांसद और नेता के परिवार के सदस्य को टिकट नहीं दिया जाएगा, जो पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं। वैसे भाजपा के प्रदेश व राष्ट्रीय नेतृत्व ने साफ कह दिया है कि किसी भी नेता की नई पीढ़ी को टिकट नहीं दिया जाएगा। पार्टी उन्हीं नेताओं के परिवार के सदस्यों, बेटा-बेटी और पत्नी को टिकट देगी, जो वर्तमान में विधायक या सांसद हैं। हालांकि पार्टी इसमें उन नेताओं को भी रियायत दे सकती है, जिनकी आयु 75 वर्ष से अधिक होने के कारण उनका टिकट काटा जा रहा है।
अगर शीर्ष नेतृत्व ने परिवारवाद को रोकने के लिए नई नीति को सख्ती से लागू किया तो कई दिग्गज नेताओं के परिजन चुनाव लड़ने से वंचित रह जाएंगे।

Share
Share