वाराणसी : नगर निगम ने महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर हॉस्पिटल को दी चेतावनी ?

वाराणसी। नगर निगम वाराणसी ने सुंदरपुर स्थित महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर हॉस्पिटल को बायो मेडिकल वेस्ट को गलत तरीके से कूड़े में फेंकने के आरोप में नोटिस जारी किया है। यह नोटिस नगर आयुक्त अक्षत वर्मा की ओर से अस्पताल के निदेशक को भेजा गया है।

नियम उल्लंघन पर भारी जुर्माना

नोटिस में उल्लेख किया गया है कि यदि भविष्य में बायो-मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट-2016 की धारा 15 (1) का उल्लंघन फिर से किया गया, तो कड़ी कार्रवाई के साथ 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। इसके अलावा, एक वर्ष तक नियमों का लगातार उल्लंघन करने पर सात साल की सजा भी हो सकती है। गौरतलब है कि इस अस्पताल का संचालन बीएचयू में टाटा द्वारा किया जाता है।

कूड़ा डंपिंग यार्ड में मिला बायो मेडिकल वेस्ट

नगर आयुक्त अक्षत वर्मा के अनुसार, ‘सुंदरपुर स्थित कैंसर संस्थान से काले पॉलीथिन बैग में बायोमेडिकल वेस्ट जैसे इंजेक्शन, सर्जरी किट, एक्सपायरी दवाएं और सर्जरी वेस्ट आदि कूड़े में फेंके जा रहे हैं, जो जन-सुरक्षा के लिए हानिकारक हैं। यह नगर निगम से किए गए एग्रीमेंट का भी उल्लंघन है।’ 28 जून को शहर के कूड़ा डंपिंग यार्ड करसड़ा में सामान्य कूड़े के बीच प्रतिबंधित मेडिकल वेस्ट मिलने पर जांच की गई, जिसमें यह कूड़ा कैंसर संस्थान से आया होना पाया गया।

स्वच्छता कार्यों पर प्रतिकूल प्रभाव

नगर निगम द्वारा जारी नोटिस में कहा गया है कि ‘आपके कृत्य से नगर क्षेत्र में स्वच्छता के लिए किए जा रहे कार्यों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। भविष्य में ऐसा दोबारा हुआ तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।’

बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट-2016 के नियम

बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट-2016 के अनुसार, स्वास्थ्य सेवाओं और अनुसंधान लैब से निकलने वाले बायो मेडिकल (जैव चिकित्सा अपशिष्ट) के संग्रहण, प्रबंधन और निपटारे को लेकर कानून बनाए गए हैं। इन कानूनों के तहत इन कचरों का उचित निपटारा अनिवार्य है। लापरवाही बरतने पर कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *