Warrant against Khesari Lal Yadav : खेसारी लाल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, कभी भी हो सकते हैं गिरफ्तार, बुरे फंसे

Warrant against Khesari Lal Yadav : खेसारी लाल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, कभी भी हो सकते हैं गिरफ्तार, बुरे फंसे

खेसारी लाल यादव के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

Warrant against Khesari Lal Yadav : भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार और सिंगर खेसारी लाल यादव के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो गया है। छपरा कोर्ट ने उनके खिलाफ यह वारंट जमीन खरीद और चेक बाउंस के मामले में जारी किया है। यह मामला 2019 का है। खेसारी लाल यादव ने पत्‍नी चंदा देवी के नाम से जमीन खरीदी थी, ज‍िसका भुगतान नहीं हुआ है।

मामला का विवरण

खेसारी लाल यादव कोर्ट के सामने कई सुनवाइयों में गैर-हाजिर रहे हैं, जिससे कारण समय बर्बाद हो रहा था और सुनवाई भी ठीक तरीके से नहीं हो पा रही थी।

2019 में एक जमीन खरीद और चेक बाउंस से जुड़ा था मामला। खेसारी लाल यादव ने मृत्‍युंजय पांडे से 22 लाख 7 हजार रुपये में जमीन बेचने की डील की थी, लेकिन भुगतान नहीं हुआ था। इस बावजूद उन्होंने 18 लाख रुपये का चेक दिया था, जो बाद में चेक बाउंस हो गया था।

कोर्ट के आदेश

छपरा कोर्ट के न्यायिक दंडाधिकारी श्रेणी प्रियांशु शर्मा ने रसूलपुर थाना के केस संख्या 120/19 के एनआई एक्ट विचारण संख्या 2676/23 में इस आदेश को जारी किया है।

मामले में खेसारी लाल यादव को गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। कोर्ट ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है और रसूलपुर थाना के धानाडीह गांव के रहने वाले खेसारी लाल यादव को मिली अंतरिम जमानत के आदेश को भी रद्द कर दिया है।

विवाद के पीछे का कारण

मृत्‍युंजय पांडे ने याचिका में बताया है कि उन्होंने जमीन बेचने के लिए खेसारी लाल यादव की पत्नी चंदा देवी से डील की थी, जिसके लिए 18 लाख रुपये का एक चेक दिया था। लेकिन चेक बाउंस होने के कारण विवाद बढ़ गया था।

विवाद को देखते हुए पांडे ने पुलिस में 16 अगस्त 2019 को एफआईआर दर्ज करवाया था। पुलिस ने मामले की जांच करने के बाद 22 अगस्त 2020 को चार्जशीट दायर की और खेसारी लाल यादव पर धारा 406 और 138 एनआई एक्ट के तहत आरोप तय किए गए।

कोर्ट के निर्णय

छपरा कोर्ट ने बाद में 22 जनवरी 2021 को खेसारी लाल यादव के खिलाफ समन जारी किया और फिर 25 फरवरी 2021 को जमानती वारंट जारी किया था। खेसारी ने तो जमानत ले ली थी, लेकिन उन्होंने कई तारीखों के बाद कोर्ट में सुनवाई के लिए हाजिर नहीं होने का फैसला किया था। इसके परिणामस्वरूप, कोर्ट ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिया है।

By Vijay Srivastava