बेटी देर से आई तो पिता ने मार दी गोली, मथुरा में ट्रॉली बैग में मिली लाश का शिनाख्त, ऑनर किलिंग का निकला पूरा मामला

मथुरा में ट्रॉली बैग में मिली लाश का शिनाख्त
मथुरा में ट्रॉली बैग में मिली लाश का शिनाख्त :आयुषी यादव

ब्रेकिंग न्यूज
-पुलिस अभी पिता के साथ पूरे प्रकरण की जांच कर रही है
मथुरा। मथुरा में यमुना एक्सप्रेसवे की सर्विस रोड पर कृषि अनुसंधान केंद्र के पास लाल रंग के ट्रॉली बैग में खून से लथपथ 22 वर्षीय की जहां शिनाख्त हो गयी है वहीं यह पूरा मामला ऑनर किलिंग का निकलने से सनसनी फैल गयी। पुलिस ने घटना के दो दिन के अन्दर ही पूरे घटना क्रम का लगभग खुलासा कर दिया है। दिल्ली के बदरपुर निवासी ने अपनी ही सगी बेटी आयुषी यादव को गोली मार कर उसके शव लाल ट्रॉली बैग में रखकर उसे सर्विस रोड के किनारें फेक दिया था। मॉ-बाप दोंनो गिरफ्तार
, दूसरे जाति से के लडके से शादी करने की जिद से पिता नाराज था ।
गौरतलब है कि 18 नवम्बर को यमुना एक्सप्रेसवे के किनारें एक रहस्यमय ट्रॉली बैग दिखने पर लोंगो ने इसकी सूचना पुलिस को दी। जिसपर पुलिस ने जब बेग खुला तो अन्दर एक लगभग 22 वर्षीय युवती का खून से लथपथ शव के साथ ही दो साडी भी बरामद हुई। युवती की बाईं छाती में गोली लगी थी जबकि सिर, हाथ और पैरों में भी काफी चोट के निशान थे। तत्काल पुलिस हरकत में आते हुए आठ टीमें मृतका के शिनाख्त के लिए लगायी गयी।

आयुषी का भाई और मॉ : आयुषी यादव


पुलिस ने शिनाख्त के लिए लगभग 20 हजार मोबाइल कॉल ट्रेस करने के साथ इन मोबाइल फोन्स की लोकेशन सर्विलान्स टीम ने जहां खंगाला वहीं आसपास क्षेत्र में 200 से अधिक सीसीटीवी कैमरों के फुटेज, फेसबुक, ट्वीटर, वाट्सएप आदि को खंगालने के बाद आखिरकार पुलिस ने लावारिस शव की पहचान कर ली। शव दिल्ली के गांव मोड़बंद निवासी नीतेश यादव की पुत्री आयुषी यादव (21) निकला। पुलिस ने रविवार की देरशाम मां ब्रजबाला और भाई आयुष को पोस्टमार्टम गृह बुलाया जहां दोंनो ने शव को देखते ही पहचान कर जोर-जोर से दोंनो रोते लगे।

See also  मंत्री को ASI ने मारी गोली, हालत गंभीर, आरोपी को पकड़ लोंगो ने पुलिस के हवाले किया I ASI shot the Minister


पुलिस सूत्रों के अनुसार 22 साल की आयुषी यादव घर से बिना बताए कहीं चली गई थी। जब वह 17 नवंबर को घर लौटी तो पिता नितेश यादव ने जब पूछताछ की तो वह अपना आपा खो बैठा और उसकी पिस्तौल से गोली मारकर अपनी ही बेटी की हत्या कर दी। घटना की जानकारी अन्य किसी को न हो इसके लिए रात में ही पिता नितेश यादव ने बेटी आयुषी यादव के शव को लाल रंग के ट्रॉली में पैक किया, साथ ही खून आदि बाहर न निकले और दो साडी रखदी जिससे वह सोख लें और इसके बाद रात में ह ीवह यमुना एक्सप्रेस-वे की सर्विस रोड पर राया इलाके में अपनी ही बेटी का शव फेंक कर भाग गया। देर रात पुलिस के गहन पूछताछ में नितेश यादव ने अपने बेटी की हत्या करने बात कबूल कर ली। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त हथियार समेत लाश को ठिकाने लगाने के लिए इस्तेमाल की गई कार भी बरामद कर लिया है। वैसे पुलिस अभी आयुषि के पिता और उसके परिजनों से पूछताछ कर रही है कि आखिर ऐसी कौन सी परिस्थिति आयी कि एक पिता गुस्सा में आकर अपने ही बेटी की गोली मार कर हत्या कर देता है।
वेसे पुलिस प्रथम दृष्टया इस प्रेम प्रपंच के लिए हत्या का प्रकरण मान रही थी लेकिन जब 48 घंटे की कडी मेहनत के बाद पुलिस ने जब चैनल बाई चैनल पूरा घटना क्रम को देखा तो यह मामला आनरॅ किलिंग पर जाकर टिक गया और पिता ही अपने बेटी का हत्यारा निकला।

Share
Share